Breaking News
Home / सम्पादकीय

सम्पादकीय

आज मेरा जन्मदिन है, लेकिन मेरी हालत…

अक्षरों में है अकेलापन, शब्दों में है दोस्ती, वाक्यों में है संगठन और संगठन एक ताक़त। कैसा लगा आप लोगों को मेरा परिचय, मैं हिंदी हूं, हिंदी जिसमें तुम्हारा बचपन खेला, जिसमें तुम्हारा यौवन बीता, जिसमें तुमने सपनें देखे, जिसमें तुमने प्रेम के गीत गाये। आज मेरा जन्मदिन है, लेकिन …

Read More »

हिन्दी दिवस 2017: जानिए हिन्दी भाषा के बारे में कुछ रोचक तथ्य

किसी राष्ट्र की एकता व संस्कृति के शक्तिशाली बनने का माध्यम भाषा है। भाषा के उत्थान एवं प्रचार में ही पूरे राष्ट्र का कल्याण समाहित है।मातृभाषियों की सँख्या की दृष्टि से विश्व में सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषाओं के सन् 1998 ई. के उपलब्ध आँकड़ों के अनुसार हिन्दी को तीसरा …

Read More »

हिंदी- हिंदी करते हैं सब ,हिंदी उन्हें ना भावे

हिंदी इंग्लिश हैं दो बहना, दोनों करें लड़ाई दोनों की महिमा है अपनी फिर भी समझ ना आई।। हिंदी बोली मेरा घर है फिर तू क्यूँ है आई तुझको कोई नही पूँछता फिर क्यूँ यहाँ समाई।। इंग्लिश बोली सुन री बहना ज्यादा न इतराओ झूँठी सच्ची बातें करके मन को …

Read More »

हल्के लॉ एंड ऑर्डर पर भारी भीड़तंत्र

लॉ एंड आर्डर (कानून व्यवस्था) एक बेहद अनुशासित शब्द है, इसकोे सुनते ही मैं जिम्मेदार नागरिक की हैसियत से अक्सर सावधान की मुद्रा में आ जाता हूँ। अगर एक से दूसरी बार सुन लू तो  मेरे चरण, आराम की शरण छोड़कर परेड की मुद्रा में आ जाते है। लॉ-ऑर्डर सुनने …

Read More »

ड्राई फ्रूट्स खाने के ये फायदे नहीं जानते होंगे आप

ड्राई फ्रूट्स का सेवन शरीर को कई सारी समस्याओं से राहत दिलाता है. आइए जानते हैं कि ड्राई फ्रूट्स किन-किन समस्याओं को दूर करता है. 1-बादाम में फाइबर, प्रोटीन, कैल्शियम, जिंक, पौटाशियम, फोसफोरस, कोपर, आयरन और विटामिन बी भरपूर मात्रा में पाए जाते है, जो शरीर की कई आवश्यकताओं को …

Read More »

क्या हम आज़ाद हैं?

15 अगस्त 2017 -71वाँ स्वतंत्र दिवस। कहने को हमें आज़ाद हुए 70 साल हो चुके हैं जिसका जश्न हम प्रतिवर्ष 15अगस्त को मनाते हैं। पर क्या हम सही मायने में आज़ाद हैं? जिस देश के सभी नागरिकों को समान अधिकार न हो; जहाँ आज भी ईमान-धर्म के नाम पर भेद-भाव …

Read More »

नारी हूँ, अबला नहीं

रोज़ सवेरे अखबार में हम औरतों के खिलाफ हो रहे अत्याचारों की ख़बरें बड़े – बड़े काले अक्षरों में पड़ते हैं । कभी कन्या भ्रूण हत्या तो कभी गेंग रेप, कभी कचरा पात्र में मिली नवजात तो कभी अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच झूझ रही एक पीडिता । …

Read More »

विश्व पर्यावरण दिवस विशेष: पर्यावरण और भारतीयता

भारतीयता सम्पूर्ण रुप से हम सभी को रक्षित करती है। उसमें प्रारम्भ से ही र्प्यावरण को अत्यन्त मुखर स्थान दिया है। हमारी संस्कृति में वृक्ष, पेड़-पौधों, जड़ी बूटियों को देवता माना गया है। पवित्र और देवतुल्य वृक्षों की एक लम्बी परम्परा भारतीयता के साथ गुंथी हुई है। भारतीयता किसी व्यक्ति …

Read More »

नशे की दुनिया और उससे बचाव

मादक चीजों में आजकल नशीली दवाओं का नशा सभी प्रकार के लोगों में बढ़ता चला जा रहा है। नशीली दवाओं की बढ़ती लत पूरी पीढ़ी को समाप्त कर रही है। यह स्थिति आने वाली पीढ़ी के सामाजिक और वैयक्तिक स्वास्थ्य के लिए बडी गंभीर चुनौती है। नई पीढी नशीली दवाओं …

Read More »

कैसा हो पीने का पानी ?

पीने का पानी कैसा हो? इस विषय पर वैज्ञानिको ने काफी प्रयोग किये हैं और पानी की गुणवत्ता को तय करने के मापदण्ड बनाये है। पीने के पानी का रंग, गंध, स्वाद सब अच्छा होना चाहिए। शुद्ध आसुत जल पीने के योग नहीं होता है। इसी प्रकार ज्यादा केल्शियम या …

Read More »