Breaking News
Home / ज़रा हटके / स्वच्छता सर्वेक्षण 2018: इंदौर देश का सर्वाधिक स्वच्छ शहर

स्वच्छता सर्वेक्षण 2018: इंदौर देश का सर्वाधिक स्वच्छ शहर

इंदौर, भोपाल और चंडीगढ़-को देश का शीर्ष 3 सर्वाधिक स्वच्छ नगर चुना गया है। 40 करोड शहरी नागरिकों से संबंधित 4203 शहरी स्थानीय निकायों का मूल्यांकन किया गया है 53.58 लाख स्वच्छता ऐप डाउनलोड किये गये हैं तथा 37.66 लाख नागरिकों के फीडबैक का संग्रह किया गया है नागरिकों के फीडबैक तथा सेवा स्तर में हुई प्रगति में से प्रत्येक को 35 प्रतिशत की भारिता दी गई है, जबकि प्रत्यक्ष निरीक्षण को 30 प्रतिशत की भारिता दी गई है।

Loading...

रमजान माह में सुरक्षा बलों और सेना की कार्रवाई पर रोक

केन्द्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री हरदीप पुरी ने राष्ट्रीय मीडिया केन्द्र में स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 के परिणामों की घोषणा करते हुए विजेताओं को बधाई दी। स्वच्छ भारत मिशन (शहरी) के तत्वाधान में केन्द्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय ने स्वच्छ सर्वेक्षण 2018 का आयोजन किया था। इसमें 4203 शहरी स्थानीय निकायों का मूल्यांकन किया गया।

भारत और फ्रांस के बीच रेलवे क्षेत्र में तकनीकी समझौता

2700 मूल्यांकन कर्मियों ने पूरे देश के 40 करोड़ लोगों से संबंधित स्थानीय निकायों का सर्वेक्षण किया। यह कार्यक्रम 4 जनवरी 2018 से 10 मार्च 2018 तक जारी रहा। 2017 में 434 नगरों में स्वच्छता सर्वेक्षण किया गया था। इस अवसर पर सचिव श्री दुर्गा शंकर मिश्रा, एसबीएम-शहरी के मिशन निदेशक श्री वीके जिंदल तथा मंत्रालय के अधिकारी उपस्थित थे।

ओमान भारत जॉइंट बिज़नेस काउंसिल के सदस्‍यों की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात

स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 के दौरान 53.58 लाख स्वच्छता ऐप डाउनलोड किये गये हैं तथा 37.66 लाख नागरिकों के फीडबैक का संग्रह किया गया है। 2016 में 73 नगरों में स्वच्छता सर्वेक्षण का संचालन किया गया था। इसमें मैसूर को सर्वाधिक स्वच्छ नगर होने का दर्जा दिया गया था। 2017 में 434 नगरों में स्वच्छता सर्वेक्षण का संचालन किया गया था और इंदौर को सर्वाधिक स्वच्छ नगर का पुरस्कार दिया गया था।

भारत विश्व में तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में से एक है: राष्ट्रपति

इस सर्वेक्षण में नागरिकों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। नागरिकों के फीडबैक तथा प्रत्यक्ष निरीक्षण को उच्च भारिता दी गयी है। स्वच्छ सर्वेक्षण 2018 का फोकस था- स्वच्छ भारत मिशन के अंतगर्त शहरी स्थानीय निकायों की पहलों के परिणाम, नवोन्मेष तथा सततता।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *