Breaking News
Home / देश / 2019 चुनाव: यूपी के सहारे कांग्रेस

2019 चुनाव: यूपी के सहारे कांग्रेस

2019 चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दलों की नजरें उत्तरप्रदेश की संसद सीटों पर हैं। संसद में सबसे ज्यादा 80 सीटें देने वाला राज्य यूपी केंद्र में सरकार बनाने में सबसे अहम भूमिका निभाता आया है। देश को अब तक सबसे ज्यादा प्रधानमंत्री यूपी ने ही दिए हैं। अपने वजूद को फिर से हासिल करने के लिए जद्दोजहद कर रही कांग्रेस एक बार फिर यूपी के सहारे खड़े होने की जुगत में है। मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक कांग्रेस यूपी में सपा और बसपा से मिलकर 2019 का चुनाव लड़ सकती है।

Loading...

रोटोमैक के मालिक पिता-पुत्र की कोर्ट में पेशी आज

विधानसभा चुनाव 2017 में भी कांग्रेस बीएसपी और सपा को साथ मिलाना चाहती थी, लेकिन, मायावती की रजमांदी ना मिलने की वजह से ऐसा संभव नहीं हो सका। इसलिए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और अखिलेश यादव ने मिलकर चुनाव लड़ा था, हालांकि इसके परिणाम ज्यादा अच्छे नहीं रहे। दोनों पार्टियों को करारी हार का सामना करना पड़ा। लेकिन, खबर आ रही है कि कांग्रेस दोनों विरोधी दलों (सपा, बसपा)को साथ ला सकती है। दोनों दलों के साथ मिलकर 2019 का चुनाव लड़ सकती है।

बसपा के दिग्गज नेता नसीमुद्दीन तकरीबन 100 लोगें के साथ कांग्रेस में शामिल हुए हैं, ऐसा कहा जा रहा था कि बसपा प्रमुख मायावती इससे नाराज हो सकती हैं और वह कभी कांग्रेस के साथ नहीं आएंगी। लेकिन, इसको लेकर कांग्रेस नेता गुलाम नबी ने कहा है कि ऐसा कुछ नहीं है हमारी पार्टी के भी कई नेता बसपा में गए हैं, यह नाराजगी की वजह नहीं हो सकती। गौरतलब है कि बसपा संस्थापक सदस्यों में से एक रहे और मायावती के खासमखास नेता नसीमुद्दीन कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। नसीमुद्दीन को मायावती ने टिकट में पैसे के लेनदेन और धांधली के आरोप के चलते पार्टी से निष्कासित कर दिया था।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *