Breaking News
Home / देश / भारत में सोराइसिस के उपचार में कारगर बदलाव करना Glenmark का लक्ष्य

भारत में सोराइसिस के उपचार में कारगर बदलाव करना Glenmark का लक्ष्य

Loading...

एक शोध प्रेरित विश्वस्तर पर एकीकृत फार्मास्यूटिकल कंपनी Glenmark Pharmaceuticals Limited ने भारत में Apremilast लांच करने की घोषणा की है। Apremilast, भारत में सोराइसिस का प्रथम उन्नत ओरल सिस्टेमिक उपचार है। Apremilast एक फॉस्फोडाइएस्टेरेज 4 (PDE4) इनहिबिटर है जो मध्यम से गंभीर सोराइसिस तक के उपचार हेतु इंगित है। Apremilast की लांच से सोराइसिस के उपचार में नई क्रांति होगी जिसका फायदा इस रोग से पीड़ित लगभग 33 मिलियन भारतीयों को प्राप्त होगा।

Apremilast सोराइसिस का उन्नत मौखिक उपचार है जो भारत में वर्तमान में उपलब्ध उपचारों की कमियां दूर करता है। रोग फैलने के शुरुआती चरण में यह लक्षित प्रकार से कार्य करता है। इसके अलावा यह एक इम्यूनोमॉड्युलेटर भी है जबकि बायोलॉजिक्स सहित देश में उपलब्ध अन्य दवाएं इम्यूनोसप्रेसेंट हैं और प्रायः आंकोलॉजिकल दशाओं के उपचारों के लिए इंगित हैं। इम्यूनोसप्रेसेंट, प्रतिरक्षी तंत्र को कमजोर करती हैं जिससे शरीर, विविध संक्रमणों के प्रति असुरक्षित हो जाता है। इम्यूनोमॉड्युलेटर होने के कारण Apremilast प्रतिरक्षी तंत्र को नुकसान नहीं करती और सोराइसिस की समस्या का इंट्रासेल्युलर स्तर पर उपचार करती है जिससे देश भर के सोराइसिस के रोगियों को लाभ होगा।

Apremilast एक मौखिक उपचार है जो वर्तमान में उपलब्ध कुछ इंजेक्टेबल उपचारों जिन्हें लेने के लिए पैरामेडिक्स की सहायता लेनी होती है, के विपरीत खुद ही लिया जा सकता है। इसके अलावा Apremilast अपेक्षाकृत सुरक्षित दवा है जिसका अन्य अंगों जैसे कि लीवर या किडनी पर कोई बुरा असर नहीं होता और नियमित प्रयोगशाला निदान जांचें जैसे कि CBC, लीवर और किडनी के टेस्ट या TB की जांच नहीं करानी पड़ती जबकि वर्तमान में प्रयुक्त अन्य उपचारों में ये आवश्यक होती हैं।

Glenmark ने Apremilast को ‘Aprezo’ ब्रांड नाम के तहत लांच किया है जो सोराइसिस के उपचार के लिए इंगित है। Glenmark ने नियामकीय अपेक्षाओं के अनुरूप मॉलेक्यूल पर क्लीनिकल परीक्षण करने के उपरांत Apremilast के लिए DCGI से मंजूरी प्राप्त की है।

Sujesh Vasudevanप्रेसिडेंट और हेड – भारतमध्यपूर्व और अफ्रीकाGlenmark Pharmaceuticalsने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि, “Glenmark को भारत में सोराइसिस के एक उन्नत और सुरक्षित मौखिक उपचार के रूप में Apremilast लांच करते हुए गर्व है। त्वचा रोग विज्ञान के क्षेत्र में Glenmark भारतीय रोगियों के लिए 4 दशकों से उन्नत उपचार पेश करती रही है। Apremilast लांच करते हुए हम देश में सोराइसिस के लाखों रोगियों के लिए उपचार का तरीका रूपांतरित करने वाले हैं।”

Rajesh Kapurसीनियर वाइस प्रेसिडेंट – सेल्स एंड मार्केटिंगGlenmark Pharmaceuticalsने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि, “Apremilast देश में उपलब्ध मौजूदा उपचारों की तुलना में अधिक सुरक्षित व कारगर उपचार है। Apremilast देश में सोराइसिस के लिए विशेष रूप से उपलब्ध एकमात्र मौखिक दवा है। यह मौजूदा उपचारों की अनेक सीमाओं, जैसे कि नियमित प्रयोगशाला जांचों की ज़रूरत भी खत्म करती है। हमें उम्मीद है कि भारत के लाखों रोगी अब इस क्रांतिकारी उपचार की बदौलत अधिक बेहतर जीवन जीने में सक्षम बनेंगे।”

विश्वस्तर पर, दुनिया के लगभग 3% लोग किसी न किसी प्रकार के सोराइसिस से परेशान होते हैं। एक अन्य अध्ययन में बताया गया है कि देशों में 0.09% और 11.43% की रेंज में सोराइसिस का प्रचलन, सोराइसिस को एक गंभीर समस्या बनाता है।

भारत अब विश्व में रोगियों का एक सबसे बड़ा पूल बन गया है और ऐसा अनुमान है कि यहां सोराइसिस के लगभग 33 मिलियन रोगी हैं। भारत में सोराइसिस पर एक अध्ययन के अनुसार, लखनऊ, डिब्रूगढ़, कलकत्ता, पटना, दरभंगा, नई दिल्ली और अमृतसर में स्थित विविध मेडिकल कॉलेजों से एकत्रित आंकड़ों के अनुसार, यह पाया गया कि कुल त्वचा रोगियों में सोराइसिस रोगियों की संख्या 0.44 और 2.2% के बीच है। यह भी पाया गया कि पुरुषों का महिलाओं से अनुपात (2.46:1) काफी अधिक था और यह समस्या 20-39 वर्ष आयु वर्ग में सर्वाधिक पाई गई।

Apremilast देश में 33 मिलियन सोराइसिस रोगियों को क्रांतिकारी उपचार उपलब्ध कराएगी। Apremilast भारत में पहला मौखिक उपचार है जो खास तौर से सोराइसिस के लिए है। यह मौजूदा उपचारों की तुलना में अधिक सुरक्षित है और यह देश में सोराइसिस उपचार के तरीकों में रूपांतरणकारी बदलाव करेगा।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *