Breaking News
Home / ट्रेंडिंग / जिसमें ज्यादा जोखिम हो, उस योजना से अधिक लाभ भी मिलता है

जिसमें ज्यादा जोखिम हो, उस योजना से अधिक लाभ भी मिलता है

एशिया पेसिफिक इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेन्ट ने मंत्रा के लोकार्पण के अवसर पर अतिथि व्याख्यान देने के लिए विज्ञापन गुरु श्री प्रल्हाद कक्कर का स्वागत किया । इस समारोह में अध्यक्ष श्री ए.के. श्रीवास्तव, संकाय सदस्यों और छात्रों ने भाग लिया । इसमें मीडिया,  एआईएम के निदेशक मंडल, कॉर्पोरेट मेहमानों और नियोक्ताओं ने भी भाग लिया गया ।

श्री प्रल्हाद कक्कर ने उल्लेख किया कि सीखने की प्रक्रिया बचपन से शुरू होती है, सफल होने के लिए हममें अहंकार सीखने से पहले नहीं आना चाहिए। उन्होंने कहा कि सपना किसी व्यक्ति की रचनात्मकता पर निर्भर करता है। हमें आशा सपने देखने से मिलती है। उन्होंने उल्लेख किया कि जिसमें ज्यादा जोखिम हो, उस योजना से अधिक लाभ भी मिलता है। उन्होंने कहा कि पहले प्रयास में ही सफलता मिल जाए ऐसा अनिवार्य नहीं है, असफलता से हमें सीखने को मिलता है। अस्वीकृति से हमें अधिक शक्ति मिलती है। उन्होंने साझा किया है कि 2 + 2, 4 के बराबर नहीं है, लेकिन 22 के बराबर है अर्थात जुनून और प्रतिबद्धता के साथ हम इसे पा सकते हैं। उन्होंने विद्यार्थियों को एरिक्सन मोबाइल फोन का उदाहरण दिया, कि कंपनियां अपने आप को बाजार में बनाए रखने के लिए हमेशा परिवर्तन करती रहती है। उन्होंने अंत में पेप्सी के विज्ञापन, टाइम्स ऑफ इंडिया के विज्ञापन, सफारी डाकोरा के विज्ञापन आदि के अपने विज्ञापन के अद्भुत उदाहरण प्रस्तुत किए।

Loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *