Breaking News
Home / लाइफस्टाइल / गर्मियों के मौसम में सेहतमंद रहने के लिए इन बातों का अवश्य रखें ध्यान

गर्मियों के मौसम में सेहतमंद रहने के लिए इन बातों का अवश्य रखें ध्यान

भीषण गर्मियों के मौसम में हीट स्ट्रोक, डी-हाइड्रेशन, फूड प्वॉजनिंग, निष्क्रिय लिवर और पेट फूलने गंभीर समस्याएं आम देखने को मिलती हैं। यहीं नहीं, बिना काम किए भी लोग अत्यधिक थका-थका महसूस करते हैं। इस मौसम में खुद को फ्रैश रखने के लिए सबसे आवहिक है अपने खानपान का ध्यान रखना। शरीर को हाइड्रेटिड रखने के लिए ढेर सारा पानी पीने के अलावा आज हम आपको कुछ ऐसे खाद्य पर्दाथों के बारे में बताने जा रहे हैं। गर्मी में होने वाली समस्याओं से से बचने के लिए आपको इन चीजों को अपनी डाइट में अवश्य शामिल करना चाहिए।

Loading...

1. गैज्पाचो
यह गर्मियों के मौसम के लिए एक बहुत ही शानदार सूप है, जो स्वादिष्ट होने के साथ सेहत के लिए लाभदायक भी है। इसे बनाने के लिए शिमला मिर्च, टमाटर और खीरे जैसी हैल्दी चीजों का इस्तेमाल किया जाता है। एंटी-ऑक्सीडेंट, लाइकोपीन और विटामिन सी के गुणों से भरपूर यह सूप आपको गर्मियों में होने वाली प्रॉब्लम से दूर रखता है।

2. फ्रूट सैलेड
वजन नियंत्रित करने, गर्मियों में हीट स्ट्रोक और पेट की गंभीर समस्याओं से बचने के लिए फ्रूट सैलेड सबसे बेहतरीन ऑप्शन है। फल डाइटरी फाइबर्स, एंटी-ऑक्सीडेंट्स, विटामिन्स और मिनरल्स जैसे गुणों से पूर्ण्तः भरपूर होते हैं। इसलिए गर्मियों में फ्रूट्स सैलेड या फलों का सेवन जरूर करें।

3. तरबूज
इसमें तकरीबन 90 प्रतिशत पानी होता है और कैलोरीज भी बहुत कम होती हैं। इसलिए गर्मियों में तरबूज का सेवन अत्यधिक फायदेमंद होता है। तरबूज या इसके जूस का सेवन गर्मियों में शरीर को अंदर से ठंडक देने के साथ कई बीमारियों से बचाता है।

4. एवोकाडो
यह मोनोसैचुरेटिड फैट का बेहतरीन स्त्रोत है और स्वस्थ हृदय के लिए इसका सेवन बेहद फायदेमंद होता है।

5. छल्ली (भुट्टा)
बिना मक्खन या नमक के छल्ली यानी भुट्टा फाइबर से भरपूर कम कैलोरी वाला खाद्य हैं। यह पाचन क्रिया को ठीक रखने के साथ पेट से जुड़ी कई गंभीर प्रॉब्लम को दूर करने में बहुत मदद करता है।

6. खीरा
इसमें लगभग 95 प्रतिशत पानी मौजूद होता है और यह आपको हाइड्रेटिड रखता है। इसमें कौलोरीज, फैट्स, विटामिन्स, फोलेट और पोटाशियम बहुत कम मात्रा में होते हैं, जिससे आपका वजन भी पूर्ण्तः कंट्रोल में रहता है। इसके अलावा यह चायपचप प्रणाली और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में भी भरपूर मदद करता है।

कैंसर केयर कार्यक्रम पर राज्य स्तरीय कार्यशाला

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *