Breaking News
Home / देश / यशवन्त सिन्हा का मोदी सरकार पर बड़ा हमला- अरुण जेटली को बताया बोझ

यशवन्त सिन्हा का मोदी सरकार पर बड़ा हमला- अरुण जेटली को बताया बोझ

भाजपा की पहली पीढ़ी के नेता रहे यशवन्त सिन्हा ने एक बार फिर अपनी ही पार्टी की मोदी सरकार पर हमला बोला है। इस बार उन्होंने हमले में उन्होंने और आक्रमकता दिखाई है। पिछले कई दिनों से यशवन्त सिन्हा नोटबंदी और जीएसटी की आलोचना करते आए हैं, लेकिन इस बार उन्होंने बड़ा हमला बोलते हुए मोदी सरकार के नोटबंदी फैसले की तुलना मुगल नेता मोहम्मद बिन तुगलक से कर दी। सिन्हा ने यह भी आरोप लगाया कि देश की इकोनॉमी को नोटबंदी से 3.75 लाख करोड़ का नुकसान पहुंचा है। यशवन्त सिन्हा ने वित्त मंत्री अरुण जेटली पर भी अपना गुस्सा निकाला। सिन्हा ने कहा कि जेटली ने देश की अर्थव्यवस्था को पूरी तरह डुबो दिया है।

इलेक्ट्रॉनिक विज्ञापन में नहीं होगा ‘पप्पू’ शब्द का इस्तेमाल, चुनाव आयोग ने लगायी रोक

यशवन्त सिन्हा ने ‘लोकशाही बचाओ आंदोलन’ कार्यक्रम में यह बातें कहीं, सिन्हा इस कार्यक्रम में नोटबंदी और जीएसटी पर बोल रहे थे। गुजरात चुनाव को लेकर भी उन्होंने अरुण जेटली पर निशाना साधा और उन्हें गुजरात की जनता के लिए बोझ बता दिया। अरुण जेटली गुजरात की राज्यसभा सीट से सांसद हैं।

शिक्षा में बदलाव के नए अध्याय की शुरुआत

जेटली 2014 में मोदी लहर के बावजूद अमृतसर लोकसभा सीट से चुनाव हार गए थे। पिछले कई दिनों से बीजेपी के इस बुजुर्ग नेता ने मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है । यशवन्त सिन्हा बिहारी सरकार में वित्त मंत्री रह चुके हैं। यशवन्त सिन्हा के बेटे जयन्त सिन्हा भी मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री हैं। हाल ही में पैराडाइज पेपर्स में जयन्त सिन्हा का नाम भी उछला था। गौरतलब है मुरली मनोहर जोशी, लालकृष्ण आडवाणी और यशवन्त सिन्हा जैसे बीजेपी के सभी बुजुर्ग नेताओं को पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखा रखा है।

हिंडन एयरबेस में घुसने की फिराक में था युवक, सुरक्षाकर्मी ने पैर पर गोली मारी

कभी पार्टी की पहली लाइन में आने वाले यह नेता आज खुद को अपमानित कर रहे हैं। किसी भी पार्टी मीटिंग में इनको नहीं बुलाया जाता। इससे पहले लालकृष्ण आडवाणी को भी राष्ट्रपति का उम्मीदवार बनाने की अटकलें लगाईं जा रही थीं लेकिन रामनाथ कोविंद का नाम सामने आने के बाद उनकी इस उम्मीद पर भी पानी फिर गया।

Loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *