ओपन ब्रेन सर्जरी के दौरान गीता के श्लोकों का जाप करती रही महिला, कामयाब रहा ऑपरेशन

सूरत में रहने वाली  एक 36 वर्षीय महिला मरीज दया भरतभाई बुधेलिया की सफल ओपन ब्रेन सर्जरी के वक्त गीता के श्लोकों का जाप कर रही थीं। सर्जरी करीब सवा घंटे तक चली और एक घंटे तक डॉक्टर्स उनके मुंह से गीता से श्लोक सुनते रहे।

दयाबेन बुधेलिया के मस्तिष्क में खिंचाव आ गया था। मेडिकल जांच में उनके मस्तिष्क में गांठ होने की बात सामने आई। गांठ उस जगह थी, जिससे लकवा का खतरा था। इसके बाद सर्जरी की तैयारी की गई। 23 दिसंबर को न्यूरो सर्जन डॉ़. कल्पेश शाह और उनकी टीम ने ऑपरेशन किया।

सर्जरी गंभीर थी, इसलिए मरीज का होश में रहना जरूरी था। जब यह बात दयाबेन को बताई गई तो उन्होंने डॉक्टर्स से गीता के श्लोक बोलने की मंजूरी मांगी। इसके बाद सर्जरी पूरी होने तक दयाबेन श्लोकों का जाप करती रहीं और उनकी सफल सर्जरी भी हो गई।

ब्रेन सर्जरी के दौरान मरीज द्वारा गीता के श्लोक गुनगुनाने का यह पहला ही मामला देखा। मस्तिष्क से गांठ निकालने में हमें करीब सवा घंटे का वक्त लगा। इस दौरान उन्हें अवेक एनेस्थेसिया दिया गया था, जिससे वह होश में रहे। सर्जरी के तीन दिन बाद ही दयाबेन को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया था।