Breaking News
Home / टेक्नोलॉजी / गैजेट्स बढ़ाते हैं इस बीमारी का खतरा, जानिए हैरान कर देने वाले नुकसान

गैजेट्स बढ़ाते हैं इस बीमारी का खतरा, जानिए हैरान कर देने वाले नुकसान

एक नये अध्ययन में यह चेतावनी दी गई है कि दिन में तीन घंटे से अधिक समय तक टीवी, स्मार्टफोन या टैबलेट का इस्तेमाल करने वाले बच्चों को मधुमेह का खतरा बहुत अधिक हो सकता है। अध्ययन के शोधार्थियों का कहना है कि तीन अथवा तीन घंटे से अधिक समय तक टीवी या फोन की स्क्रीन देखने का संबंध ऐसे कारकों से हैं, जो बच्चों में मधुमेह के विकास से पूरी तरह जुड़े हुये हैं। अधिक देर तक टीवी या मोबाइल स्क्रीन पर समय बिताने से शरीर में वसा एवं इंसुलिन की प्रतिरोध क्षमता का संतुलन बिगड़ जाता है। अग्नाशय द्वारा तैयार किए जाने वाले हार्मोन इन्सुलिन का कार्य रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करता है।

शोधार्थियों ने चयापचय एवं कार्डियोवैस्कुलर जोखिम की श्रंखला के अध्ययन के लिये ब्रिटेन के लगभग 200 प्राथमिक विद्यालयों में पढ़ने वाले नौ-10 साल के तक़रीबन 4,500 बच्चों के नमूने एकत्रित किये। जिन कारकों का अध्ययन किया गया उनमें रक्त वसा, इंसुलिन प्रतिरोध, भूखे रहने पर रक्त शर्करा का स्तर, जलन पैदा करने वाले रसायन, रक्तचाप और शरीर की वसा आदि थे। बच्चों से प्रतिदिन टीवी अथवा कंप्यूटर या मोबाइल स्क्रीन पर बिताने वाले समय के बारे में भी पूछा गया था।

वहीं अगर भारत की बात करें तो भारत में लगभग 24.5 फीसद मधुमेह पीड़ितों के साथ चेन्नई पांचवें स्थान है। वहीं हैदराबाद की लगभग 22.6 फीसद आबादी और कोलकाता की 19 फीसद से अधिक आबादी इस बीमारी से बुरी तरह पीड़ित है। अध्ययन में पाया गया है कि शहर ही नहीं गावों के लोग भी तेजी से इस बीमारी की चपेट में आते जा रहे हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के मुताबिक, मधुमेह के मामले में भारत दुनिया के सबसे गंभीर रूप से प्रभावित तीन देशों में से एक है। इसके कारण देश पर बहुत अर्थिक भार पड़ रहा है। देश की उत्पादकता पर भी असर हो रहा है क्योंकि मधुमेह के कारण लगभग 1.7 मिलियन लोगों के गुर्दे खराब हो गए। अभी लगभग 6.8 करोड़ लोग मधुमेह की चपेट में हैं।

यह बीमारी किस कदर पैर पसार रही है इसका अंदाजा तो इस बात से ही लगाया जा सकता है कि यह युवा व बच्चों को तेजी से चपेट में भी ले रहा है। हर छह में से एक किशोर को यह बीमारी है। यह भी पाया गया कि मधुमेह के 85 फीसद मामले मोटापे से संबंधित हैं। लंबे समय तक अगर शुगर नियंत्रित न हो तो वह आंखों व तंत्रिका तंत्र को भी बहुत नुकसान पहुंचाता है।

 

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *