डॉ. हर्षवर्धन ने की कोविड-19 टीकाकरण स्थलों पर तैयारियों की समीक्षा

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कोविड-19 टीकाकरण ट्रायल रन के लिए सभा स्थलों पर की गई तैयारियों की समीक्षा को लेकर एक उच्च-स्तरीय बैठक की है।

मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को उन विभिन्न सुधारों के बारे में बताया, जो देशव्यापी ड्राई रन को किसी भी तरह की गड़बड़ी से मुक्त बनाने के लिए उठाए गए हैं।

टेलिफोन संचालकों की संख्या में वृद्धि की गई है, जो जमीन पर ड्राई रन का संचालन करने वाली टीमों के सवालों के हरसभंव जवाब देते हैं, सभा स्थलों के भौतिक निरीक्षण के लिए प्रखंड स्तर पर कार्य बल का गठन किया गया है और सभी कर्मियों को अन्य मुद्दों के बीच आम तौर पर पूछे जाने वाले सवालों (एफएक्यू) के प्रसार के उद्देश्य को लेकर भी अवगत कराया गया है।

डॉ. हर्षवर्धन ने सभी अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने की अपील की कि टीकाकरण स्थल और प्रभारी अधिकारी विस्तृत चेकलिस्ट का पालन करें। इसके अलावा टीकाकरण के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा तैयार की गई मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का भी पालन किया जाए।

ड्राई रन के संचालन में मार्गनिर्देशन के लिए एसओपी को राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के साथ भी साझा किया गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि ड्राई रन को एक उदाहरण के रूप में स्थापित करने के लिए प्रशासन और चिकित्सा अधिकारियों के बीच बेहतर समन्वय की जरूरत है, जिससे बाद में बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान को सक्षम किया जा सकेगा।

उन्होंने मॉक ड्रिल को लेकर अपनी तैयारियों पर विश्वास व्यक्त किया और केंद्रीय मंत्री को यह आश्वासन दिया कि वे चिह्नित लाभार्थियों के टीकाकरण के वास्तविक अभ्यास को लेकर पूरी तरह तैयार हैं।

डॉ. हर्षवर्धन ने अधिकारियों को उन दो शीर्ष टीका उम्मीदवारों की स्थिति के बारे में भी बताया, जिनके विवरणों पर ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) की विषय विशेषज्ञ समिति द्वारा करीब से नजर रखी जा रही है। उन्होंने अग्रिम मोर्चे के कर्मियों के प्रयासों की सराहना की और उन कोरोना योद्धाओं के लिए अपनी संवेदना व्यक्त की जिन्होंने दूसरों की जिंदगी बचाने की कोशिश में अपने जीवन का बलिदान कर दिया।