दिल्ली सरकार के पास विज्ञापन पर खर्च करने के लिए करोड़ों रुपये: डॉक्टरों को नहीं मिला 105 दिन का वेतन

हिंदू राव अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर बीते 105 दिनों से वेतन की मांग कर रहे है। वेतन न मिलने से डॉक्टरों की रोजमर्रा की जिंदगी प्रभावित हो रही है। सोशल मीडिया पर पीपीई किट पहने एक डॉक्टर की 105 दिन से वेतन न मिलने वाले पोस्टर के साथ वाली तस्वीर भी वायरल हो रही है।

दिल्ली सरकार के पास विज्ञापन पर खर्च करने के लिए करोड़ों रुपये हैं लेकिन अपने जीवन की परवाह किए बिना covid-19 से लोगों की जान बचाने वाले सरकारी अस्पताल के डॉक्टर्स को वेतन तक देने के लिए पैसे नहीं हैं।

हिन्दू राव हॉस्पिटल, दिल्ली के डॉक्टर्स को जून से कोई वेतन नहीं दिया गया है। इस संबंध में अस्पताल चिकित्सा अधीक्षक को पत्र भी लिखा जा चुका है। लेकिन वेतन देने को लेकर अभी तक कोई जवाब नहीं मिला है। इतने समय से वेतन ने मिलने के कारण डॉक्टर्स को बहुत ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। मानसिक तौर पर दबाव बढ़ता है।

जिन्हें #कोरोना_योद्धा के तौर पर सम्मान मिला है। उन्हीं डॉक्टरों को वेतन के लिए लड़ना पड़ रहा है। चिकित्सक इसके विरोध में अस्पताल में तीन घंटे का पेन डाउन रखते है, पर अपने कर्तव्य को समझते हुए आपातकालीन सेवा में आने वाले मरीजों का उपचार भी जारी रखा हुआ है।