बड़ा फैसला लेने वाले हैं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार?

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लव – कुश समीकरण के तहत उपेंद्र कुशवाहा को अपने साथ ला सकते हैं। उपेंद्र कुशवाहा एक बार फिर से अपनी पार्टी का विलय जनता दल यूनाइटेड में कर सकते हैं। बताया जा रहा है कि नीतीश कुमार चाहते है कि जेडीयू में राष्ट्रीय लोक समता पार्टी का विलय हो।

विधानसभा चुनाव 2020 के चुनाव परिणाम से नाखुश नीतीश कुमार पार्टी को मजबूत करने की दिशा में कई कदम उठा चुके हैं। गौरतलब है कि 2015 में जब वह लालू प्रसाद यादव के साथ मिलकर चुनाव लड़े थे तब जेडीयू को 70 सीटें मिली थी। लेकिन घर वापसी करते हुए जब नीतीश कुमार ने एनडीए में रहते चुनाव लड़ा तो उनकी पार्टी महज 43 सीटों पर सिमट कर रह गई। यही वजह है कि नीतीश कुमार एक बार फिर से अपने पुराने समीकरण लव – कुश यानी कुर्मी – कुशवाहा वोट बैंक को मजबूत करने की जुगत में लगें हैं। इसी के तहत नीतीश कुमार ने खुद जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष से इस्तीफा देकर कुर्मी जाति से आने वाले अपने पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव आरसीपी सिंह को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया।

इसके बाद 10 जनवरी 2021 को नीतीश कुमार ने राज्य कार्यकारिणी की बैठक में विधानसभा चुनाव हार चुके उमेश सिंह कुशवाहा को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बना दिया। हालांकि उमेश सिंह कुशवाहा को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने का मकसद कुशवाहा समाज को जेडीयू की ओर आकर्षित करना था। लेकिन कुशवाहा समाज पर उपेंद्र कुशवाहा की पकड़ को देखते हुए उन्हे वापस जेडीयू में लाने की कोशिश की जा रही है।

यह भी पढ़ें:

गिरफ्तार हुआ अहमदाबाद के रिवरफ्रन्ट से साबरमती नदी में कूदकर आत्महत्या करने वाली आयशा का पति आरिफ