Breaking News
Home / साहित्य / वंदेमातरम्

वंदेमातरम्

वंदेमातरम तुम बोलो ,
वंदेमातरम हम बोलें ।

अपने मन की बंद खिड़कियाँ
एक बार फिर खोल रहे।
माफ़ नहीं होंगे वो लेकिन,
जहर दिलों में घोल रहे ।।

सबका ही सम्मान यहाँ ,
श्रम से सबको ही तोलें ।।
वंदेमातरम तुम बोलो ,
वंदेमातरम हम बोलें ।

आजादी पर जो बलिदान ,
देश की खातिर निकले जान ।
देशभक्ति की अमर भावना ,
अमर शहीदों का सम्मान ।।

झुके हुए झंडे के सम्मुख,
वीरों की जय जय बोलें ।
वंदेमातरम तुम बोलो ,
वंदेमातरम हम बोलें ।।

कोई भी हो धर्म हमारा ,
भारत है प्राणों से प्यारा ।
आज तिरंगा बना स्वयं ,
सबका राज दुलारा ।।

निहित स्वार्थ में देश-धर्म को ,
फिर से न अब तोलें ।
वंदेमातरम तुम बोलो ,
वंदेमातरम हम बोलें ।।

Source: Business Sandesh

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *