यूपी के इस नगर निगम के खजाने में सवा लाख नए घर मालिक जमा कराएंगे टैक्‍स, 50 वार्डों में अब भी सर्वे बाकी

कानपुर नगर निगम की इनकम बढ़ने वाली है। करीब सवा लाख घर पहली बार हाउस टैक्स देने वाले हैं। इसमें से अकेले सोसायटी इलाके के ही 50 हजार घरों को हाउस टैक्स के दायरे में लाया गया है। शासन द्वारा नामित की गई एजेंसी इंडियन टेलीकॉम इंडस्ट्री(आईटीआई) के सर्वे के आधार पर 60 हजार नए घरों पर टैक्स निर्धारण की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। बाकी चिह्नित किए गए मकानों के भी बिल जल्द ही तैयार किए जाएंगे।

खास बात यह है कि उन नए घरों को तब से हाउस टैक्स देना पड़ेगा जब से उनका निर्माण हुआ है। उदाहरण के तौर पर नगर निगम की सीमा में आने वाले किसी मकान का निर्माण 2019 में हुआ है तो बिल उस समय से अब तक के लिए तैयार किए जाएंगे।

नगर निगम ने यह विकल्प भी खुला रखा है कि अगर आप अपने घर के टैक्स का खुद ही निर्धारण करना चाहते हैं तो कानपुर नगर निगम की वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन कर सकते हैं। इसमें आपको अपने प्लॉट का पूरा क्षेत्रफल और कवर्ड एरिया के साथ ही निर्माण का वर्ष भी अंकित करना होगा। इससे पता चल सकेगा कि आपको कितना हाउस टैक्स देना पड़ सकता है। साथ ही अगर आपको हाउस टैक्स के किसी बिल पर या मूल्यांकन पर आपत्ति है तो खुद ही इसे ठीक भी करा सकते हैं।

अभी 50 वार्डों में शुरू ही नहीं हो सका सर्वे

हकीकत यह है कि आईटीआई कंपनी ने अभी तक शहर के 50 वार्डों में सर्वे का काम भी शुरू नहीं किया है। सिर्फ 35 वार्ड पूरे हुए हैं। 25 वार्डों में सर्वे का काम जारी है। इस कंपनी को लक्ष्य एक साल का ही दिया गया था। नवंबर 2019 में इस कंपनी ने यहां सर्वे का काम शुरू किया था।

इसके बाद कोरोना संक्रमण काल की वजह से सर्वे ही ठप हो गया। अन्यथा नए घरों पर हाउस टैक्स वर्ष 2021 से ही लग गया होता हाउस टैक्स के लिए सर्वे का काम कोरोना संक्रमण की वजह से प्रभावित हुआ था। हालांकि अब तेजी आई है। जल्द ही सर्वे में हाउस टैक्स के दायरे में आए मकानों या संपत्तियों के बिल तैयार होने लगेंगे। इससे नगर निगम को कम से कम 50 करोड़ की सालाना आय बढ़ेगी।

यह पढ़े: हर आठवीं बस राह में दे रही धोखा, बारिश में टायरों की हालत ने करवाई यात्रियों की जर्नी ब्रेक