10 में से 1 मौत का कारण है धूम्रपान

धूम्रपान स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक होता हैं ये बात तो हम सभी जानते हैं। लेकिन इसकी लत युवाओं से लेकर वृद्धों में इस कदर देखी जाती हैं कि 10 में से 1 मौत का यह कारण अवश्य होता हैं। लेकिन आप जानकर हैरान हेागें कि रोजाना धूम्रपान करने वाले लोगों कि संख्या इस देश में एक अरब से भी ज्यादा हैं।

तो अब आप सोच लीजिए कि किस हद तक ये लोगों में इसकी सनक हैं। आपको बतां दें कि 4में से एक पुरूष और 20में से एक महिला धूम्रपान में शामिल हैं। दशकों से तंबाकू नियंत्रण नीतियों के बावजूद जनसंख्या वृद्धि में धूम्रपान करने वालों की संख्या बढ़ोतरी देखी जा रही है।

इसमें कमी तो देखी ही नहीं गयी पिछले कई सालों से। शोधकर्ताओं के मुताबिक तंबाकू कंपनियों के आक्रामक रूप से दुनिया के विकासशील देशों में नए बाजार बनाने से मृत्यु दर में इजाफा हो सकता हैं।

एक शोध से यह पता चला हैं कि तम्बाकू से जुड़ी मौतें 2015 में 64 लाख से ज्यादा रही। इसमें 4.7 फीसदी की बढ़ोतरी हुयी हैं। इसकी सनक सबसे ज्यादा युवाओं में देखी गयी हैं। धूम्रपान करने से ये दिमाग की सोचने की समझने की शक्ति समाप्त कर देता हैं।