उत्तर प्रदेश को 108 उड़ान मार्ग आवंटित होंगे : सिंधिया

नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आज घोषणा की कि उड़ान योजना के तहत उत्तर प्रदेश को आवंटित मार्गाें की संख्या 63 से बढ़ाकर 108 की जाएगी। सिंधिया ने यह घोषणा लखनऊ से दिल्ली, बेंगलुरु, मुंबई, कोलकाता और गोवा के लिए आठ संपर्क उड़ानों के उद्घाटन करने के दौरान की। लखनऊ हवाई अड्डे पर आयोजित इस कार्यक्रम में सिंधिया एवं नागर विमानन राज्य मंत्री जनरल (अवकाश प्राप्त) वी.के. सिंह दिल्ली से वीडियो लिंक से जुड़े थे जबकि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सम्मानित अतिथि के रूप में कार्यक्रम स्थल पर उपस्थित थे।

इस कार्यक्रम में नागर विमानन मंत्रालय में सचिव राजीव बंसल, संयुक्त सचिव उषा पाधी, उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त मुख्य सचिव एस.पी. गोयल, एयर एशिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक सुनील भास्करन तथा नागर विमानन मंत्रालय, उत्तर प्रदेश सरकार तथा एयर एशिया के अन्य गण्यमान्य प्रतिनिधि भी शामिल हुए।

नए उड़ान मार्गों की शुरुआत के अवसर पर सिंधिया ने कहा, “यह एक ऐतिहासिक घटनाक्रम है, जिसमें एक एयरलाइन ने एक शहर को भारत के 5 अन्य शहरों से 8 संपर्क उड़ानों के जरिए जोड़ दिया है। मैं एयर एशिया और उत्तर प्रदेश सरकार को इस उपलब्धि के लिए बधाई और धन्यवाद देना चाहता हूं। लखनऊ अब दिल्ली से तीन उड़ानों के जरिए, बेंगलुरू से दो उडानों के जरिए, मुंबई से एक उडान के जरिए और कोलकाता तथा गोवा से प्रतिदिन एक-एक उडान के जरिए जुड़ गया है।”

उत्तर प्रदेश में नागर विमानन के विकास के लिए उनके मंत्रालय द्वारा किए गए प्रयासों के बारे में सिंधिया ने कहा, “मुझे यह बताते हुए बेहद खुशी हो रही है कि उड़ान योजना के अंतर्गत हमने उत्तर प्रदेश राज्य को 63 नए मार्ग आवंटित किए हैं और भविष्य में इन्हें बढ़ाकर 108 कर दिया जाएगा, ताकि नागर विमानन सुविधा उत्तर प्रदेश के हर कोने तक पहुंच सके। हमने उड़ान योजना के तहत उत्तर प्रदेश में 18 हवाई अड्डों का निर्माण करना तय किया है, जिसके संरचनागत विकास पर 1112 करोड़ रुपए का निवेश करने की आवश्यकता होगी। उत्तर प्रदेश में 5 अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे होंगे, जो अपने आप में देश में अप्रतिम होगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का उत्तर प्रदेश को आत्मनिर्भर भारत का उज्ज्वल उदाहरण बनाने का स्वप्न है और इस स्वप्न को साकार करने के लिए हम जेवर और अयोध्या के अलावा चित्रकूट, मुरादाबाद, अलीगढ़, आजमगढ़ और श्रावस्ती में हवाई अड्डों का निर्माण कर रहे हैं।”

नागर विमानन राज्य मंत्री जनरल सिंह ने एयर एशिया को लखनऊ के लिए नए उडान मार्ग शुरू करने तथा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी वैट और एटीएफ घटाने के लिए बधाई देते हुए कहा कि इससे राज्य में उड़ान संपर्क कायम करने में वृद्धि होगी।

लखनऊ से दिल्ली, बेंगलुरू और गोवा की उडानें आज ही प्रभावी तौर से शुरू हो जाएंगी और लखनऊ से मुंबई तथा कोलकाता के लिए उड़ानें 01 सितंबर से शुरू होंगी। इन नई संपर्क उड़ानों से लखनऊ और देश के अन्य मुख्य शहरों के बीच आवागमन मजबूत होगा, जिससे न सिर्फ अधिक संपर्क कायम होगा बल्कि यह क्षेत्र में पर्यटन, व्यापार और वाणिज्य की वृद्धि होगी।

एयर एशिया (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड, टाटा संस प्राइवेट लिमिटेड की सब्सिडरी है जिसने 12 जून, 2014 को अपना कामकाज शुरू किया था। यह कंपनी देशभर के 18 गंतव्यों तक 50 से ज्यादा सीधी उड़ानें और करीब 100 संपर्क उड़ानें संचालित करती है।

यह भी पढ़े: तंबाकू नियंत्रण कानूनों को मजबूत करने की अपील