सामूहिक आत्महत्या मामले में 13 लोग गिरफ्तार

महाराष्ट्र में सांगली जिले की ग्रामीण पुलिस ने मंगलवार को मिराज तहसील के मैशल गांव में एक डॉक्टर के परिवार के नौ सदस्यों द्वारा सामूहिक आत्महत्या के मामले में 25 निजी साहूकारों के खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज की और 13 लोगों को गिरफ्तार किया।


गौरतलब है कि डॉक्टर माणिक वनमोरे और उनके भाई पोपट वनमोरे ने मां, पत्नी, बेटियों और बेटों सहित परिवार के सदस्यों के साथ सोमवार को जहरीला पदार्थ खाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली थी।

जिला पुलिस अधीक्षक दीक्षित गेदाम ने आज यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि पुलिस जांच के दौरान पता चला है कि डॉक्टर के परिवार को निजी साहूकारों द्वारा लगातार अपमानित और परेशान किया गया था, जो करोड़ों रुपये की ऋण राशि पर ब्याज की मांग कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि दो भाइयों के घर से आत्महत्या के संबंध में दो पर्चियां बरामद हुए हैं, जिसमें दोनों ने साहूकारों के नाम तो बताए हैं, लेकिन कर्ज की विशिष्ट राशि का जिक्र नहीं किया है।

गिरफ्तार आरोपियों में साहूकार के साथ डॉक्टर, शिक्षक, राज्य परिवहन कर्मचारी भी शामिल हैं।

गिरफ्तार किए गए साहूकारों में से कुछ की पहचान हुयी है जिसमें नंदकुमार रामचंद्र पवार (52), अनिल लक्ष्मण बैनर (35), खंडेराव केसरकर शिंदे (37), डॉक्टर तात्यासाहब अपन्ना चौगुले (45), शैलेश रामचंद्र धूमक (56), संजय इरप्पा बगड़ी (51) , अनिल बालू बोराडे (48), शिवाजी लक्ष्मण कोरे (65), विजय विष्णु सुतार (55), पांडुरंग श्रीपतराव घोरपड़े (56) और प्रकाश कृष्ण पवार (45) के रूप में हुई है।

सामूहिक आत्महत्या के बाद फरार हुए 12 साहूकारों का पता लगाने के लिए पुलिस ने छापेमारी शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें:-

मस्क की ट्रांसजेंडर बेटी नहीं रखना चाहती उनसे कोई रिश्ता, कोर्ट में दायर की याचिका