20 महीने की धनिष्ठा ने अंगदान कर 5 लोगों को दी जिंदगी, पेश की सामाजिक मिसाल

दिल्ली के रोहिणी इलाके की रहने वाली 20 महीने की धनिष्ठा ने सबसे कम उम्र की कैडेवर डोनर (Cadaver Donor) बनने का गौरव हासिल किया हैं। वह मरते-मरते अपने अंगदान कर पांच लोगों को नई जिंदगी दे गई। धनिष्ठा ने गंगाराम अस्पताल में दम तोड़ा, वह जाते-जाते समाज के लिए मिसाल बन गई।

दान किया दिल, लिवर, किडनी और कॉर्निया

धनिष्ठा ने मरणोपरांत 5 मरीजों को अपने अंग देकर उन्हें नया जीवन प्रदान किया हैं। उसका हृदय, लिवर, दोनों किडनी एवं दोनों कॉर्निया सर गंगा राम अस्पताल ने निकाल कर 5 रोगियों में प्रत्यारोपित किए गए। दरअसल, धनिष्ठा 8 जनवरी की शाम अपने घर की पहली मंजिल पर खेल रही थी, इसी दौरान वह नीचे गिरकर बेहोश हो गई और उसे फ़ौरन अस्पताल लाया गया, जहां उसने इलाज के दौरान अंतिम सांस ली। डॉक्टर्स ने उसे ब्रेन डेड घोषित किया था।

धनिष्ठा के मस्तिष्क के अलावा सारे अंग अच्छे से काम कर रहे थे। इसलिए उसके परिवार वालों ने शोकाकुल होने के बावजूद भी अंगदान करने का फैसला किया। अस्पताल के चेयरमैन डॉक्टर डी.एस. राणा ने धनिष्ठा के परिजनों की तारीफ की और कहा यह नेक कार्य वास्तव में प्रशंसनीय और प्रेरणीय है।

यह भी पढ़े: Whatsapp की निजता नीति में बदलावों की समीक्षा करेगा भारत का आईटी मंत्रालय
यह भी पढ़े: Samsung का सबसे सस्ता 5G स्मार्टफोन हुआ लॉन्च, जानें कीमत और अन्य फीचर्स