दिल्ली में 24 घंटे में सामने आए 2,419 नए मामले, 6 महीने में सबसे ज्यादा, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

कोरोना ने एक बार फिर कहर बरपाना शुरू कर दिया है. बीते कई दिनों से लगातार कोरोना संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है. खासतौर पर राजधानी दिल्ली में इसके आंकड़े अब फिर से डराने लगे हैं. शुक्रवार को दिल्ली में संक्रमण के 2,400 से ज्यादा नए मामले दर्ज किए गए. वहीं 2 लोगों की कोरोना से मौत भी हो गई. इसी के साथ अब दिल्ली में कोरोना के सक्रिय मामले बढ़कर 7 हजार के करीब पहुंच गए हैं.

शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन में बताया गया कि एक दिन के भीतर दिल्ली में कोरोना के 2, 419 नए केस दर्ज हुए हैं. बेशक इस दौरान 1,716 मरीजों की रिकवरी भी हुई लेकिन इसी दौरान कोरोना से 2 लोगों की जान भी चली गई. इसी के साथ दिल्ली में अब पॉजिटिविटी रेट बढ़कर 13 फीसद तक पहुंच गया है.

वहीं पूरे देश में बीते 24 घंटे में 19, 406 नए केस दर्ज हुए हैं. इसी के साथ अब देश में सक्रिय मामले बढ़कर 1,34,793 हो गए हैं.

क्या है फिर से बढ़ते कोविड मामलों की वजह
कोविड संक्रमण को लेकर अब लोग लापरवाह हो गए हैं. मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग जैसी गाइडलाइंस का अब पालन नहीं किया जा रहा है. ऐसे में लोगों की लापरवाही ही उन पर भारी पड़ रही है. जानकारों का कहना है कि कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है, ऐसे में सतर्कता और नियमों का पालन करना ही बचाव है. जो लोग ऐसा नहीं कर रहे हैं उनकी वजह से ही एक बार फिर ये खतरा बढ़ना शुरू हो गया है.

दिल्ली के सर गंगा राम हॉस्पिटल के डॉक्टर धीरेन गुप्ता कहते हैं कि जो समस्या दिखने पर भी कोविड का टेस्ट नहीं करवा रहे हैं उनके लिए खतरा अधिक है.

वैक्सीनेशन अभियान
इस बीच कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीनेशन अभियान तेजी से जारी है. अब तक 200 करोड़ से ज्यादा डोज लगाए जा चुके हैं. वहीं करीब 5 करोड़ बूस्टर डोज भी लगाए जा चुके हैं. बता दें कि डॉक्टर्स बूस्टर डोज (Covid-19 Booster Vaccine) लगाने में लापरवाही नहीं बरतने की सलाह दे रहे हैं. साथ ही उनका मानना है कि लापरवाही बरतने से कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है.

यह भी पढ़ें:

अल-जवाहिरी की मौत से सहमा पाकिस्तान, सताने लगा है भारत के सर्जिकल स्ट्राइक का डर