26/11 मुंबई आतंकी हमले के 12 साल हुए पूरे, जानें क्या हुआ था उस दिन

26 नवंबर 2008 को देश की आर्थिक राजधानी मुंबई पर हुए भीषण आतंकवादी हमले के घाव भारत शायद ही कभी भूल सकेगा। यह हमला इतना घातक था कि न सिर्फ भारत बल्कि पूरी दुनिया इस तबाही के मंजर को देख हैरान हो गई थी। इस दिन लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकियों ने मुंबई को बम धमाकों और गोलीबारी से दहला दिया था। करीब साठ घंटे तक आतंकियों और सुरक्षाकर्मियों के बीच भयंकर मुठभेड़ चली, जिसमें भारत को कई कुर्बानियां देनी पड़ी।

इस आतंकी हमले में 160 से ज्यादा लोग मारे गए थे और 300 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। आज 12 साल बाद भी मुंबई हमले को याद करके लोगों को दिल दहल उठता है। यह भारत के इतिहास का वो काला दिन बन गया जिसे भूलना असंभव हैं। लगातार तीन दिन तक चले इस हमले में सुरक्षा बल आतंकवादियों से जूझते रहे। इस दौरान ना सिर्फ भारत से सवा अरब लोगों की बल्कि दुनिया भर की नज़रें ताज, ओबेरॉय और नरीमन हाउस पर टिकी रहीं थी।

29 नवंबर की सुबह तक नौ हमलावरों का सफाया हो चुका था और अजमल क़साब के तौर पर एक आतंकी पुलिस की गिरफ्त में था। स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में आ चुकी थी लेकिन लगभग 160 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी थी। अजमल कसाब को 21 नवंबर 2012 को पुणे के येरवडा जेल में फांसी दे दी गई थी।

यह भी पढ़े: कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट से निपटने के लिए तैयार रहें राज्य: केंद्र सरकार
यह भी पढ़े: दिल्ली हाईकोर्ट का फरमान, वयस्क लड़की किसी के भी साथ रहने के लिए स्वतंत्र हैं