भारत में बन रही 5 कोरोना वैक्सीन से बढ़ी उम्मीदें, जानें किस चरण में पहुंचा परीक्षण

केंद्र सरकार ने कहा है कि देश में कोरोना के पांच टीकों का परीक्षण चल रहा हैं, उनसे बेहद ज्यादा उम्मीदें हैं। हालांकि, सरकार फिर भी दूसरे देशों में बन रहे टीकों के निर्माताओं के संपर्क में हैं, जिनका परीक्षण अंतिम चरण में चल रहा हैं। नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने मंगलवार को कहा कि सीरम इंस्टीट्यूट में आस्ट्रेजेनेका टीके के तीसरे चरण का परीक्षण लगभग पूरा हो चुका हैं। वहीं, भारत बॉयोटेक और कैडिला के तीसरे चरण के परीक्षण शुरू हुए है।

पॉल ने बताया कि रूस में निर्मित टीके स्पुतनिक के दूसरे-तीसरे चरणों के परीक्षणों की अनुमति दी जा चुकी है। रेड्डी लेबोरेटरी जल्द इन्हें शुरू कर देगा। इसके अलावा बाइलाजिकल-ई द्वारा जल्द ही एक अन्य टीके का परीक्षण शुरू किया जाएगा। पॉल ने कहा कि देश को इन पांच टीकों से बड़ी उम्मीदे हैं।

उन्होंने कहा मॉर्डना और फाइजर के टीके को लेकर भी अच्छी खबरें सामने आई हैं, लेकिन इन टीकों को अभी कहीं भी लाइसेंस नहीं मिला है। भारत सरकार इनके संपर्क में है। पॉल ने डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक का बयान को याद दिलाते हुए कहा कि सिर्फ टीके से बीमारी से पूरी तरह से बचाव नहीं होगा, सावधानियां आगे भी बरतनी होगी। पॉल ने कहा फिलहाल देखा जा रहा है कि कोई भी टीका मिलता हैं तो इसके लिए हम कैसे इंतजाम कर पाएंगे।

यह भी पढ़े: 1 लाख भारतीयों की PM मोदी से अपील, G-20 जंगली जानवरों के व्यापार पर प्रतिबंध का करें समर्थन
यह भी पढ़े: कोरोना वायरस को एक साल पूरा, आज ही के दिन वुहान में आया था पहला केस