नीतीश के 14 में से 6 मंत्रियों के खिलाफ दर्ज हैं गंभीर आपराधिक केस, जानें नाम

बिहार की नवनिर्वाचित नीतीश सरकार में 14 में से 6 मंत्रियों के खिलाफ गंभीर आपराधिक केस दर्ज हैं। शिक्षा मंत्री बने डॉ मेवालाल चौधरी भ्रष्टाचार के आरोपों के कारण निशाने पर हैं। उनपर बिहार कृषि विश्वविद्यालय (बीएयू) के कुलपति रहते हुए भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे और एफआईआर भी हुई थी। इन आरोपों के बाद उन्हें जेडीयू से निलंबित कर दिया गया था। बता दे मेवालाल चौधरी के अलावा नीतीश सरकार में कई दागी है, जिन पर आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। ‘

एक अध्यन के अनुसार नीतीश कैबिनेट के 14 मंत्रियों में से आठ (57 प्रतिशत) के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं। वहीं छह (43 प्रतिशत) के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। आपराधिक मामलों वाले 8 मंत्रियों में से बीजेपी के 4, जेडीयू के 2 और हम व वीआईपी के एक-एक शामिल हैं।

बता दे चौधरी को मंत्रिमंडल में शामिल करते ही हंगामा शुरू हो गया था। इससे पहले 2017 में चौधरी के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनसे मिलने से भी इनकार कर दिया था। बीएयू भर्ती घोटाले में भी मेवालाल चौधरी का नाम आ चुका हैं। वैसे बता दे 12.31 रुपए की घोषित संपत्ति के साथ चौधरी सबसे अमीर मंत्री हैं। वहीं, 14 मंत्रियों की औसत संपत्ति 3.93 करोड़ रुपए है।

मेवालाल चौधरी ने अपने शपथ पत्र में आईपीसी के तहत एक आपराधिक मामला और चार गंभीर मामले घोषित किए हैं। बीजेपी के जिबेश कुमार ने भी पांच आपराधिक मामलों और गंभीर प्रकृति के चार मामलों की घोषणा की है। वहीं पांच अन्य हैं जिनके खिलाफ अलग-अलग प्रकृति के आपराधिक मामले दर्ज हैं।

यह भी पढ़े: पेट्रोल-डीजल से चलने वाली कारों की बिक्री पर लगेगा बैन, इस देश ने लिया फैसला
यह भी पढ़े: आकाश चोपड़ा ने बताया, IPL 13 में कौन खिलाड़ी रहा RCB की सबसे बड़ी निराशा