दलित की हत्या होने पर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरी: नीतीश कुमार

बिहार मे विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहे है। चुनाव आयोग ने इसके लिए गाइडलाइन भी जारी कर दिया है। पार्टियो द्वारा चुनाव को लेकर अपनी तरफ से तैयारियां भी शुरू कर दिया है। चुनावी पार्टियाँ अपनी तरफ से तरह-तरह की घोषणये भी कर रही है। आज शाम मे मीटिंग में मुख्यमंत्री ने यह बड़ा निर्देश जारी किया है कि अगर किसी भी दलित परिवार में किसी की हत्या होती है, तो उनके परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाएगी। यह प्रावधान अनुसूचित जाति- जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत सर्तकता मीटिंग में मुख्यमंत्री ने यह बड़ा निर्देश दिया है। सीएम नीतीश ने कहा कि अनुसूचित जाति या जनजाति के पीड़ित परिवार को सरकार की ओर से आर्थिक मदद की जा रही है।

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि अनुसूचित जाति या जनजाति के कल्याण के लिए हर जरूरी कार्य किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति जनजाति के उत्थान के लिए तथा उन्हें मुख्यधारा से जोड़ने के लिए कई योजनाएं चलाई जा रही हैं। प्रदेश की सरकार पिछड़े वर्ग को मुख्यधारा लाने के लिए हमेशा प्रयासरत है।

इस समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अनन्य विशेष न्यायालयों में अनन्य विशेष लोक अभियोजक की नियुक्ति प्रक्रिया में तेजी लाने का निर्देश दिया। उन्होने अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति कल्याण विभाग को जल्द से जल्द लंबित कांडों का निष्पादन 20 सितंबर तक करने का भी निर्देश दिया।