कोरोना के इलाज में एक नई उम्मीद, पोलियो का टीका कर सकता है वायरस से सुरक्षा: शोध

दुनियाभर के वैज्ञानिक कोरोना की वैक्सीन बनाने में जुटे है। वही कुछ विशेषज्ञ वर्तमान में मौजूद टीके और दवाओं में वायरस से लड़ने की क्षमता पर काम कर रहे है। इसी बीच एक अध्यन में ओरल पोलियो वैक्सीन (ओपीवी) के टीके को कोरोना के इलाज में कारगर होने की बात कही गई है। दरअसल, मेडिकल जर्नल साइंस में एक नवीनतम अध्यन प्रकाशित हुआ है, जिसमें इस बात को लेकर चर्चा की गई है कि क्या मौजूदा टीके कोरोना को रोकने में मददगार हो सकते है।

अध्यन में ओरल पोलियो वैक्सीन (ओपीवी) के संदर्भ में भी चर्चा की गई है। जिसमें अन्य संक्रमणों को कम करने में मददगार जीवित वायरस शामिल है। शोध के मुताबिक जीवित क्षीण टीके भी इंटरफेरॉन और अन्य जन्मजात प्रतिरक्षा तंत्रों को प्रेरित कर सकते है। इससे ऐसे असंबंधित रोगजनकों के खिलाफ व्यापक सुरक्षा को प्रेरित किया जा सकता है जिन्हें अभी पहचाना जाना शेष है। शोधकर्ताओं का कहना है कि ओपीवी कोरोना में अस्थायी सुरक्षा दे सकता है।

शोध में कोरोना संक्रमण से लड़ने में तपेदिक और काली खांसी के खिलाफ काम आने वाले कुछ टीकों को प्रभावी बताया गया है। जिसके मुताबिक तपेदिक के खिलाफ बेसिलस कैलमेट-गुएरिन (बीसीजी), काली खांसी के खिलाफ लाइव अटेक्सिन वैक्सीन ऐसी है, जिनसे कोरोना संक्रमण से बचाव किया जा सकता है। वही कोरोना से प्रभावित रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए सिंड्रोम कोरोना वायरस में ओपीवी जैसे टीके संक्रमण से प्रतिरक्षा कर सकते है।

यह भी पढ़े: जुआ खेलने के आरोपी गधे को पाकिस्तान में मिली जमानत, चार दिन खानी पड़ी हवालात की हवा
यह भी पढ़े: अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की तैयारी में जुटी राष्ट्र सेविका समिति