कोल इंडिया के लिए कोयला आयात में अडानी समूह की दिलचस्पी, ये है प्लान

गौतम अडानी समूह की कंपनी अडानी एंटरप्राइजेज ने कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) के टेंडर में दिलचस्पी दिखाई है। कोल इंडिया ने कोयला आयात के लिए बोलियां मंगाई थी। इस बोली की रेस में अडानी समूह के अलावा 10 और कंपनियां भी शामिल हैं।

दरअसल, कोल इंडिया ने देश में बिजली संयंत्रों को ईंधन की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए 24.16 लाख टन कोयले का आयात करने के लिए पहली निविदा जारी की थी। इसके एक दिन बाद विदेश से 60 लाख टन कोयला मंगाने के लिए मध्यम अवधि की दो निविदाएं जारी की गई थी।

कोल इंडिया के मुताबिक इस संबंध में 14 जून और 17 जून को बैठकें हुई थीं। इसमें कोयला आयात करने वाली 11 कंपनियों ने सीआईएल के अधिकारियों के साथ भाग लिया था। उनमें से प्रमुख भारतीय कंपनियां अडानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड, मोहित मिनरल्स और चेट्टीनाड लॉजिस्टिक्स प्राइवेट लिमिटेड थीं। कुछ विदेशों कोयला निर्यातक एजेंसियों ने भी इसमें रुचि दिखाई है, जिनमें से एक इंडोनेशिया से है।

कोल इंडिया ने कहा निविदा में बोलीदाताओं ने बोली मूल्य की वैधता की समय सीमा को 90 दिनों से घटाकर 60 दिनों तक करने के महत्वपूर्ण संशोधन का अनुरोध किया था। इसके अलावा उन्होंने लदान की पहली किस्त की आपूर्ति के लिए समय अवधि को पत्र की तारीख से चार से छह सप्ताह के बीच तय करने के लिए भी कहा था।

बोलीदाताओं के अनुरोधों का संज्ञान लेते हुए कोल इंडिया ने बोली दस्तावेज में संशोधन किया और बिना किसी बाधा के प्रक्रिया को तेज करने के लिए ‘ई-प्रोक्योरमेंट पोर्टल’ पर एक सुधार पत्र जारी किया गया है।

यह पढ़े: Yes Bank ने लॉन्च किया नया प्रोडक्ट, डिपॉजिट खाताधारकों के लिए खुशखबरी