190 करोड़ रुपये के पार गया अडानी विल्मर का मुनाफा, रेवेन्यू में भी तगड़ा उछाल

खाद्य तेल क्षेत्र की प्रमुख कंपनी अडानी विल्मर लिमिटेड (एडब्ल्यूएल) का जून में समाप्त पहली तिमाही का शुद्ध लाभ 10 प्रतिशत बढ़ा है। तिमाही में गौतम अडानी समूह की इस कंपनी का मुनाफा 193.59 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। कंपनी के मुताबिक तिमाही के दौरान ऊंची कीमतों से मुनाफा बढ़ा है।

कंपनी ने वित्त वर्ष 2021-22 की अप्रैल-जून तिमाही में 175.70 करोड़ रुपये शुद्ध लाभ कमाया था। चालू वित्त वर्ष 2022-23 की पहली तिमाही में कंपनी की कुल आय बढ़कर 14,783.92 करोड़ रुपये हो गई, जो पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 11,369.41 करोड़ रुपये थी।

क्या कहा सीईओ ने: अडानी विल्मर के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) अंगशु मलिक ने कहा कि कुछ जिंसों की कीमतों में नरमी के कारण अंतत: राहत के संकेत मिले हैं, जिससे आने वाली तिमाही में मांग में सुधार होने की संभावना है। बता दें कि अडानी विल्मर के पास एक विविध उत्पाद पोर्टफोलियो है, जिसमें खाद्य तेल, आटा, चावल, दालें, बेसन और चीनी समेत अधिकांश घरेलू इस्तेमाल का सामान शामिल है।

इसका प्रमुख ब्रांड ‘फॉर्च्यून’ भारत में सबसे ज्यादा बिकने वाला खाद्य तेल ब्रांड है। कंपनी के भारत के 10 राज्यों में 23 संयंत्र हैं, जिनमें 10 पेराई इकाइयां और 19 रिफाइनरियां शामिल हैं।

यह पढ़े: पेंशनर्स पर सरकार ने खर्च किए 2 लाख करोड़ से ज्यादा, मिलने वाली है DR की सौगात