पर्याप्त नींद से मस्तिष्क को मिलता है बहुत आराम

मौजूदा जीवनशैली में शरीर को स्वस्थ रखना चुनौती है। हेल्दी रहने के लिए शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करना आवश्यक है। इस लिहाज से हम खान-पान को तवज्जो देते ही हैं, पर जीवनशैली और नजरिए में थोड़ा सा फर्क लाकर हम अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर बना सकते हैं…

रात में भरपूर नींद लेने से न सिर्फ आप दिनभर तरोताजा महसूस करती हैं, बल्कि रोगों से लडऩे की आपकी शक्ति भी बढ़ती है। चिकित्सकों के मुताबिक पर्याप्त नींद से मस्तिष्क को आराम मिल जाता है। इस अवधि में कोशिकाओं की टूट-फूट की मरम्मत का मौका मिल जाता है और वे पुन: शक्ति प्राप्त कर लेती हैं।

क्षतिग्रस्त कोशिकाओं के मुकाबले स्वस्थ कोशिकाएं रोगों से लडऩे की प्रक्रिया में बेहतर साबित होती हैं। जाहिर है कि इस तरह पर्याप्त नींद रोगों से दूरी बनाए रखने में भी मददगार है। पर्याप्त नींद से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर असर डालने वाले स्ट्रेस हारमोन का स्तर भी कम होता है। इसलिए रोजाना कम से कम सात-आठ घंटे की नींद लेनी चाहिए।

मसाज कराना है अच्छा

मसाज से शरीर को ताजगी व स्फूर्ति मिलती है, पर इसके फायदे और भी हैं। इससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी इजाफा होता है। विज्ञान ने भी इसकी तस्दीक की है। अमेरिका में हुए एक अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि 45 मिनट की मसाज से बैक्टीरिया व वाइरस से लडऩे वाले व्हाइट ब्लड सेल्स में वृद्धि होती है। यही नहीं इससे स्ट्रेस हारमोन के स्तर में भी कमी आती है। इसके अलावा मसाज से शरीर में एलर्जी व अस्थमा जैसे रोगों के कारणों पर भी लगाम लगती है। जब मसाज के हैं इतने फायदे तो इस पर खर्च करना है समझदारीभरा फैसला।

गुस्से पर काबू करना

अगर आप व्यर्थ की बहस में उलझती हैं और अक्सर अपने गुस्से पर काबू नहीं कर पातीं तो यह वक्त है खुद को बदलने का। विभिन्न शोध अध्ययनों में यह साबित हुआ है कि बेकार की बहस में उलझने से दोस्तों व परिचितों के बीच न सिर्फ आपकी छवि खराब होती है, बल्कि उससे आपकी आयु कम होने की आशंका भी पैदा हो जाती है। दरअसल व्यर्थ की बहस से तनाव बढ़ता है, जिसका शरीर पर कई तरह से नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, इसलिए किसी से बहस में उलझने से पहले यह विचार अवश्य करें कि क्या वाकई उसकी जरूरत है।

फायदेमंद है व्यायाम

शरीर को चुस्त-दुरुस्त बनाए रखने के लिहाज से व्यायाम करना बेहद फायदेमंद है, पर क्या आप जानती हैं कि इसका एक और फायदा है। व्यायाम करने से शरीर में एंटीबॉडीज और व्हाइट ब्लड सेल्स तीव्र गति से संचारित होते हैं, जिसकी वजह से शरीर पहले ही रोगों का पता लगा लेता है। डॉक्टरों के अनुसार इंफेक्शन की स्थिति में भी एक्सरसाइज से शरीर को राहत मिलती है। दरअसल एक्सरसाइज की वजह से शरीर से पसीना निकलता है और बॉडी टेम्प्रेचर बढ़ जाता है और बैक्टीरियल ग्रोथ पर लगाम लगती है। इस तरह शरीर बेहतर तरीके से इंफेक्शन से लडऩे में समर्थ हो पाता है। अगर जिम के लिए समय निकालना आपके लिए संभव नहीं है तो घर पर ही योगा, एरोबिक्स या साइक्लिंग जैसी एक्सरसाइज कर सकती हैं।

जानिए सेहत के लिए रोना क्यों है फायदेमंद