पश्चिम बंगाल में BJP के बाद अब TMC की मुश्किल बढ़ाएगी Congress पार्टी

बिहार विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस पश्चिम बंगाल में भी वामदलों के साथ गठबंधन करने में जुटी हुई हैं। इस प्रक्रिया को कांग्रेस ने अंतिम रूप सेना शरू कर दिया हैं। पश्चिम बंगाल में यह दूसरी बार होगा, जब दोनों पार्टियां गठबंधन में विधानसभा चुनाव लड़ेंगी। फिलहाल दोनों पार्टियों का सीट बंटवारा नहीं हुआ हैं। गौरतलब हैं कि पश्चिम बंगाल में कांग्रेस अभी भी अपना वजूद बचाये रखने की जद्दोजहद में लगी हैं। उसे अकेले चुनाव लड़ने से बड़ा नुकसान संभव हैं।

बंगाल में वामदलों के लिए भी सत्ता पाने के लिए सेकुलर गठबंधन की जरूरत है। दरअसल, लेफ्ट के पास भी खड़े होने के लिए जमीन नहीं है। कांग्रेस लेफ्ट गठबंधन चुनाव में तृणमूल कांग्रेस की मुश्किल बढ़ा सकता है। क्योंकि, पिछले लोकसभा चुनाव में तृणमूल और भाजपा का मुकाबला बेहद नजदीक था।

पिछले चुनाव में तृणमूल को 43 फीसदी वोट के साथ 22 सीट मिली थी, जबकि भाजपा को 40 प्रतिशत वोट के साथ 18 सीट मिली। वहीं, दो सीट कांग्रेस के हिस्से में आई थी। पिछली बार टीएमसी और कांग्रेस ने अलग-अलग चुनाव लड़ा, जिसका नुकसान दोनों पार्टियों को हुआ। लेकिन अब दोनों पार्टियां गठबंधन चुनाव लडने की तयारी में हैं, जिसका संभवतया फायदा दोनों को मिलेगा। पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस लेफ्ट गठबंधन में पार्टी को 44 सीट मिली थी।

यह भी पढ़े: IPL 2020 में खत्म हुआ RCB का सफर, हैदराबाद से हार के बाद निराश हुए विराट
यह भी पढ़े: हसीन जहां का मोहम्मद शमी के परिवार पर एक और आरोप, यह हैं पूरा मामला