कोरोना इलाज के बाद अस्पताल ने थमाया 8 करोड़ का बिल, 70 वर्षीय मरीज का ऐसा था रिएक्शन

अमेरिका के सिएटल शहर से एक चौकाने वाला मामला सामने आया है। कोरोना से जूझ रहे अमेरिका के इस शहर में 62 दिन अस्पताल में भर्ती रहे 70 वर्षीय मरीज को अस्पताल ने 11 लाख डॉलर (करीब 8.14 करोड़) का बिल थमा दिया। मरीज का नाम माइकल फ्लोर है। अस्पताल का भारी-भरकम बिल मिलने के बाद माइकल फ्लोर ने मजाकिया अंदाज में कहा कि उन्हें कोरोना से जिंदा बचने का हमेशा अफसोस रहेगा। बिल देख उनका तो हार्ट फेल हो चला था।

माइकल फ्लोर ने आगे कहा ‘मैं अपने आप से पूछता हूं कि मैं ही क्यों? मेरे साथ ही ऐसा क्यों हुआ? इस अविश्वसनीय खर्चे को देखकर निश्चित रूप से मुझे अपराधबोध हो रहा है।’ बता दे माइकल को कोरोना संक्रमण हुआ था और उन्हें 4 मार्च को स्वीडिश मेडिकल सेंटर में एडमिट करवाया गया था। करीब 62 दिन तक अस्पताल में इलाज के बाद माइकल तब हैरान रह गए, जब अस्पताल ने उन्हें खर्चे का 181 पेज का बिल थमा दिया, जो कुछ इस प्रकार है..

181 पेज के बिल में खर्चे का ब्योरा:
  • आईसीयू में कमरे का प्रतिदिन खर्च 9,736 डॉलर (करीब सात लाख रुपये)
  • 29 दिन तक वेंटिलेटर का खर्च 82,215 डॉलर (करीब 62 लाख रुपये)
  • संक्रमण से प्रभावित दिल, किडनी और फेफड़ों का दो दिन का खर्च एक लाख डॉलर (लगभग 76.95 लाख रुपये)

अस्पताल के डॉक्टर्स माइकल को ‘मिरेकल चाइल्ड’ यानी चमत्कारिक बच्चा कहकर बुलाते थे। दरअसल कोरोना संक्रमण के बाद भी माइकल ने कोरोना को मात दे दी। अमेरिका की राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा कार्यक्रम का लाभार्थी होने के कारण माइकल को बिल का अधिकांश हिस्से का भुगतान नहीं करना पड़ेगा।

यह भी पढ़े: रूस में ताकत का प्रदर्शन करेगी भारत की तीनों सेनाएं, चीन की बढ़ सकती है चिंता
यह भी पढ़े: भारत में जल्द लॉन्च हो सकता है Samsung Galaxy Tab S7 टेबलेट, रेंडर हुए लीक