राजस्थान के बाद अब दिल्ली से भी दूर होंगे सचिन पायलट, गहलोत रच रहे चक्रव्यूह

राजस्थान की राजनीति में किनारे करने के बाद अब अशोक गहलोत सचिन पायलट के लिए दिल्ली के दरवाजे भी बंद करना चाहते है। इसी वजह से अशोक गहलोत ने सचिन पायलट पर मुबंई के कॉरपोरेट हाउस की मदद लेकर कांग्रेस अध्यक्ष बनने की कोशिस करने का आरोप लगाया है। वही दूसरी तरफ गहलोत के सचिन पर लगातार हमलावर होने के रवैये से पार्टी के अन्य नेता काफी हैरान है। सचिन ने भी अपनी छवि खराब करने का आरोप लगाया है।

एक तरफ गहलोत ने सचिन को पार्टी से बाहर करने का मन बना लिया है। वही दूसरी तरफ पार्टी आलाकमान ने सचिन के लिए कांग्रेस के दरवाजे खुले रखे है। सचिन ने भी पार्टी नेतृत्व और कांग्रेस के खिलाफ एक भी शब्द नहीं कहा है। वह बार-बार यही संकेत दे रहे है कि उनकी लड़ाई पार्टी नहीं बल्कि मुख्यमंत्री गहलोत के खिलाफ है। संभवतया इसी खिजन की वजह से गहलोत ने सचिन पर महज साढ़े तीन मिनट में कई गंभीर आरोप लगा दिए है।

गंभीर नेता की छवि रखने वाले गहलोत आमतौर पर इस तरह की बयानबाजी नहीं करते है। लेकिन सचिन पायलट के लिए उन्होंने जिन शब्दों का इस्तेमाल किया है, उससे स्पष्ट है कि वे सचिन को पार्टी में कतई रखने के पक्ष में नहीं है। पायलट के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई में हो रही देरी से भी बैचेन है।

यह भी पढ़े: गोवा में शुरू हुआ कोरोना वैक्सीन का मानव परीक्षण, गोवा सीएम ने दी शुभकामनाएं
यह भी पढ़े: सहमति का पालन नहीं कर रहा चीन, फिंगर-5 से फिंगर-8 तक अभी भी डटी है चीनी सेना