ये खबर पढ़ने के बाद रोज खाना चाहेंगे ककड़ी, जानिए इसके चमत्कारी फायदे

ककड़ी में पाया जाने वाला टारटरेट एसिड शरीर में मौजूद कार्बोहाइड्रेट्स को ऊर्जा में परिवर्तित करने में सहायता करता है जिससे कार्बोहाइड्रेट्स कोशिकाओं में फैट के रूप में जमा नहीं हो पाते हैं। इसके अलावा खारी व ककड़ी में भरपूर पोषक तत्वों की उपस्थित के कारण हैल्थ एक्सपर्ट इन्हें सुपर फूड यानि सर्वोत्तम आहार की श्रेणी में रखते हैं।

ककड़ी का उपयोग हमारे खान-पान का एक अहम हिस्सा है। इसको हम खाने के अन्दर सलाद के रूप में उपयोग पुराने समय से करते आ रहे है। हमारे खान-पान की जो परम्परा रही है वो ऐसे ही नहीं बनी है उसके पीछे हमारे पूर्वजों के अनुभव और ज्ञान की कसौटी पर परख कर रखी गई है। जैसे ककड़ी के जो फायदों के बारे में जानकर ही उन्होंने इसे हमारे खानपान में शामिल किया है। आइए जानते है ककड़ी किस प्रकार हमारे लिए फायदेमंद है ।

पेशाब की जलन

ककड़ी का रस लेने से  यूरिन अधिक बनता है तथा यूरिन अधिक मात्रा में आता है।
इसमें सोडियम भी पाया जाता है, जिसकी सहायता से शरीर में लौह तत्व पहुँचते हैं और पेशियाँ लचीली बनती हैं। शीतल होने के कारण यह तृष्णानाशक तो होती ही है साथ ही अम्लपित्त (Acidity) भी भगाती है। ककड़ी खाने से पेशाब की जलन दूर होती है।

ऑइली स्किन-

चेहरे की त्वचा चिकनी हो तो ककड़ी या खीरा रगड़े फिर पानी से धोयें। चेहरे की चिकनाई दूर हो जायेगी।

पाइरिया

ककड़ी खाने, इसका रस पीने से पाइरिया में लाभ होता हैं।

डार्क सर्कल

ककड़ी का रस सुरक्षित तरीके से सूखी, गहरी और मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाता है। आंखों के नीचे की त्वचा अति संवेदनशील होती है। अाँखों के आसपास जहाँ कहीं भी काले घेरे हों, उन पर ककड़ी का रस नित्य तीन बार लगायें। सावधानी रखें कि रस आँखों में नहीं जायें। ककड़ी नित्य लम्बे समय तक खायें। आँखों के काले घेरे ठीक हो जायेंगे।

किडनी में दिक्कत

गाजर व ककड़ी, ककड़ी और शलजम का रस पीने से वृक्क रोग ठीक हो जाते हैं।

दाग, धब्बे

ककड़ी का रस त्वचा का रंग साफ करता है। चेहरे पर दाग, ताँबे के रंग के धब्बे, मुँहासे हों तो नित्य ककड़ी का एक गिलास रस पियें।

बालों को बढ़ाना

ककड़ी में सिलिकॉन और सल्फर अधिक मात्रा में मिलते हैं जो बालों को बढ़ाते हैं। ककड़ी के रस से बालों को धोयें। ककड़ी, गाजर, सलाद (Lettuce) और पालक, सबको मिलाकर रस पीने से बाल बढ़ते हैं। यदि ये सब उपलब्ध नहीं हों तो जो मिलें वे ही मिलाकर रस बना लें। इससे नाखून गिरना भी बन्द हो जाते हैं।

रक्तचाप

ककड़ी में पोटेशियम तत्व बहुत मिलते हैं। ककड़ी का रस उच्च एवं निम्न, दोनों रक्तचापों में पीना लाभदायक है।ककड़ी छिलके सहित कच्ची ही खानी चाहिए। ककड़ी पर नमक न डालें। ककड़ी खाने से पाचन-क्रिया अच्छी रहती है।

यह भी पढ़ें-

अपनाएं ये टिप्स पेट की चर्बी कम करने के लिए