Breaking News
Home / दिल्ली / नजरिया: तीन राज्य जीतने के बाद भी कांग्रेस के लिए आसान नहीं लोकसभा 2019

नजरिया: तीन राज्य जीतने के बाद भी कांग्रेस के लिए आसान नहीं लोकसभा 2019

नई दिल्ली: हिंदीपट्टी के तीन राज्य राजस्थान, एमपी और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को जीत मिली और उसने सरकार बना ली है| इससे कांग्रेस के खेमे ख़ुशी की लहर है और साथ साथ आगामी लोकसभा चुनावो के लिए कांग्रेस ने जीत के सपने देखने भी शुरू कर दिए हैं जबकि ये इतना आसान नहीं हैं| तीन राज्य जीत लेने के बाद भी अभी कांग्रेस लोकसभा चुनावो के लिए बैकफुट में है|

ये है वजह– राज्यों के चुनाव जीतने से कांग्रेस आगामी लोकसभा के लिए बैकफुट में है क्योकि केंद्र और राज्य के चुनावो में मुद्दे अलग अलग होते हैं| जनता की धारणा अलग होती है और देश के साथ साथ अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों को देखकर जनता वोट देती है| राज्यों में बेरोजगारी, किसानो की समस्या, बिजली पानी आदि प्रमुखता से भुना लिए जाते है जबकि देश के चुनावो में पाकिस्तान समस्या, जीडीपी, मंहगाई, पेट्रोल-डीजल की कीमते, आरक्षण, राम मंदिर, तीन तलाक जैसे मुद्दे हावी होने वाले होते है| ऐसे में अगर इन मुद्दों में देखा जाय तो कांग्रेस अभी स्पष्ट नहीं है और यही उसकी हार की वजह हो सकती है| इन राज्यों में कांग्रेस को जिताने वाले लोग अभी ये नहीं कह रहे हैं की उनके राज्य में कांग्रेस की सबसे अधिक सीटें आएगी और लोकसभा में उसकी सरकार बनेगी| दरअसल मुद्दा जब देश का हो तो वोटर इसे कई सारे पहलुओ से जोड़कर देखने लगता है जिसमे अभी बी मोदी फिट बैठते दिखाई दे रहे है| बीते दो सालों में जिस तरह से मोदी वर्सेस हू का मुद्दा टीवी चैनलों में चलाया गया है उससे कांग्रेस को नुकसान है| मोदी की गलत राजनीती को देखते हुए अगर लोग उन्हें वोट ना भी दें तो वो राहुल गाँधी की तरफ नहीं जाना चाहते हैं| फिर वो अपने राज्य के बड़े दल को सपोर्ट करने का विचार करते है| लोकसभा चुनावो से पहले और बीते राज्यों के चुनावो में जिस तरह से बिना किसी ठोस सबूत के राहुल गाँधी राफेल के पीछे पड़ें है उससे उनकी इमेज को कितना नुकसान पहुच रहा है वो शायद नहीं समझ पा रहे हैं| अब राफेल जनता सुनना नहीं चाहती हैं| उसे मंहगाई, बेरोजगारी, पेट्रोल-डीजल और राम मंदिर में बात करने वाला नेता चहिये और ऐसे में भले मोदी इसकी बात ना करें लेकिन बीजेपी में एक खेमा है जिसे केवल यही बातें करने के लिए रखा गया है|

Loading...

ऐसे में राहुल गाँधी के लिए आगामी लोकसभा चुनाव बहुत मुश्किल है|

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *