एक्ट्रेस के चेहरे पर हुई थी ऐसी बीमारी, बोलीं- पति पूछते थे आंख क्यों मारती हो?

सास बिना ससुराल सीरियल से फेमस हुईं एश्वर्या सखूजा (Aishwarya Sakhuja) आज छोटे पर्दे का जाना माना नाम बन गई हैं. हाल ही में एक्ट्रेस ने अपनी एक गंभीर बीमारी के बारे में खुलकर बात की है. उन्होंने अपना दर्द बयां करते हुए बताया कि कैसे इस बिमारी के चलते उनके आधे चेहरे ने काम करना बंद कर दिया था. इस दौरान उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा.

टीवी एक्ट्रेस एश्वर्या सखूजा ने एक इंटरव्यू में अपनी गंभीर बिमारी को लेकर बताया कि साल 2014 में उन्हें रैमसे हंट सिंड्रोम हो गया था. ये वही बिमारी है जिससे हॉलीवुड के पॉप सिंगर जस्टिन बीबर जूझ रहे हैं. एश्वर्या ने बताया कि जब वो टीवी शो ‘मैं ना भूलूंगी’ की शूटिंग कर रही थीं तब इस बीमारी की वजह से उनका आधा चेहरा फ्रीज ही हो गया था. इस वजह से वो काफी तकलीफ महसूस कर रही थी.

शो की शूटिंग के दौरान उन्हें पता चला कि उनका चेहरा काम नहीं कर रहा है. इस बीमारी से उनकी हालत ऐसी हो गई थी कि वो ढंग से कुल्ला भी नहीं कर पा रही थीं. धीरे धीरे उनके चेहरे ने काम करना भी बंद कर दिया था.

एश्वर्या ने बताया कि उनके पति रोहित उन्हें टोकटे हुए पूछा करते थे कि मैं उन्हें विंक (आंख मार) क्यों कर रही हूं. एश्वर्या ने कहा- मैंने रोहित की बातों को मजाक में लिया क्योंकि मुझे पता नहीं था मेरे साथ कुछ हो रहा है. अगली सुबह, मुझे अपने दांत ब्रश करते समय कुल्ला करने में दिक्कत महसूस हुई. फिर मैं पानी को अपने मुंह में नहीं रख पा रही थी. हालांकि मैंने इस बात को बहुत ही हल्के में लिया क्योंकि मुझे ऐसा लगा कि शायद ये सब स्ट्रेस की वजह से हो रहा है.’

इसके बाद उनकी दोस्त और एक्ट्रेस पूजा शर्मा ने उनके चेहरे पर कुछ नोटिस किया. इसके उन्होंने एश्वर्या से पूछा कि क्या वो ठीक महूसस कर रही हैं क्योंकि उनका चेहरा सामान्य नहीं लग रहा था. तब ऐश्वर्या डॉक्टर के पास गईं और उन्हें पता चला वो रामसे हंट सिंड्रोम से जूझ रही हैं. ऐश्वर्या ने बताया कि दवाईयों से वो एक महीने में पूरी तरह से ठीक हो गई थीं.

बता दें कि ऐश्वर्या ‘बात हमारी पक्की है’, ‘ये है आशिकी’, ‘नच बलिए 7’ और ‘फियर फैक्टर: खतरों के खिलाड़ी 7’ जैसे शोज में भी नजर आ चुकी हैं.

रामसे हंट सिंड्रोम क्या है?
रामसे हंट सिंड्रोम न्यूरोलॉजिकल बीमारी है जिसमें एक वायरस चेहरे की नसों की सूजन का कारण बनता है. नसों में सूजन आ जाने के बाद कार्य करने की क्षमता कम या खत्म हो जाती है जिससे अस्थायी रूप से चेहरा प्रभावित हो जाता है. इसका मतलब यह है कि रामसे हंट सिंड्रोम होने पर चेहरे की मांसपेशियों को ठीक से काम करने के लिए आवश्यक संकेत नहीं मिल पाते हैं.

यह भी पढ़ें:

Elon Musk को भारत ने फिर दिया करारा जवाब, Tesla के देश में कार बनाने को लेकर बड़ी खबर