Breaking News
Home / ट्रेंडिंग / राज्यसभा में कश्मीर की स्थिति को लेकर बोले अमित शाह, ‘जल्द शुरू होगा इंटरनेट’

राज्यसभा में कश्मीर की स्थिति को लेकर बोले अमित शाह, ‘जल्द शुरू होगा इंटरनेट’

राज्यसभा में कश्मीर की स्थिति को लेकर आया अमित शाह का बड़ा बयान, स्थिति बताई सामान्य

गृह मंत्री अमित शाह का कहना है कि कश्मीर में स्थिति बिलकुल सामान्य है। एनीसीपी सांसद माजिद मेमन के सवाल का ने आंकड़ो को सामने रख कर दावा किया है कि कश्मीर की स्थिति अब बिलकुल सामान्य हो चुकी है, कश्मीर में जनजीवन पटरी पर आ चुका है।

उन्होने कहा कि कश्मीर में सभी स्कूल, आस्पताल और सरकारी दफ्तर अपने नियमित रूप से चल रहे है। गृह मंत्री ने यह भी कहा कि यह वहीं सदन है जहां यह कहा गया था कि कश्मीर में विशेष राज्य का दर्जा छीनने के बाद वहाँ खून की नदियां बहेंगी लेकिन अब यह बताने में हमे खुशी हो रही है कि 5 अगस्त के बाद वहाँ पुलिस की फ़ाइरिंग में एक भी नागरिक की जान नहीं गयी है।

Loading...

अमित शाह ने यह भी कहा कि जहां तक बात इंटरनेट की है तो वह सही समय आने पर चालू कर दी जाएगी, फिलहाल अभी आवश्यक कार्यों के लिए 10 जिलों में टर्मिनल काम कर रहे है।

सभी अस्पतालों की सेवाएँ हुई चालू

सदन में कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद और पीडीपी सांसद नजीर अहमद लवाय ने भी कश्मीर व्यवस्था, शिक्षा और स्वस्थ्य पर सवाल उठाएँ। अहमद लवाय ने अपने भाषण में कहा कि कश्मीर में दवाइयों की बहुत अधिक कमी है।

उन्होने यह सवाल उठाते हुए सरकार की तरफ इशारा किया कि क्या सरकार दवाइयों की आपूर्ति की भरोसा दिलाएगी? इस पर गृह मंत्री ने जवाब देते हुए कहा कि कश्मीर के हालात आम जगहों के जैसे ही है और वहाँ दवाइयों की कोई कमी नहीं है और सभी अस्पताल भी खुले हुए हैं।

अमित शाह ने कहा कि दवाइयों के लिए मोबाइल वैन का भी प्रयोग हो रहा है। श्रीनगर के अस्पतालों में 60 लाख 67 हजार जबकि अक्टूबर महीने में 60 लाख 91 हजार मरीजों का इलाज हुआ है।

उन्होने कहा कि अगर किसी को भी किसी भी क्षेत्र में स्वस्थ्य से संबन्धित किसी प्रकार की कमी का पता चलता है तो वह उन्हे बता सकते है। उन्होने आश्वासन दिलाया कि शिकायतों पर तुरंत कार्यवाही होगी। इस बात पर पीडीपी के नेता ने भी मेज थपथपा कर उनका समर्थन किया।

हम भी चाहते है कि इंटरनेट जल्द चालू हो

कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद ने  जम्मू कश्मीर में शिक्षा को लेकर भी सवाल उठाया। उन्होने कहा कि जम्मू कश्मीर के स्कूल-कॉलेजों में छात्रों की संख्या में भारी गिरावट आई है। इंटरनेट ना चलने की वजह से बच्चों की पढ़ाई पर काफी असर पड़ रहा है।

इस पर गृह मंत्री ने सहमति जाहीर करते हुए कहा कि हम भी चाहते है की कश्मीर में इंटरनेट की सेवा जल्द से जल्द शुरू हो, साथ ही उन्होने यह भी कहा कि मोबाइल फोन 1995-96 में देश में आया परंतु कश्मीर में इसकी शुरुवात 2003 में हो सकी सिर्फ सुरक्षा कारणों के वजह से कश्मीर में इंटरनेट की सेवा बंद है और हम इसे जल्द ही शुरू करने कि कोशिश में लगे हुए है।

अमित शाह ने यह भी कहा कि आंकड़े देख के लोग सवाल उठाए।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *