अंडमान में सभी पर्यटन स्थल बंद

दक्षिण अंडमान के जिलाधिकारी ने सभी पर्यटन स्थलों को पर्यटन गतिविधियों के लिए तत्काल प्रभाव से बंद करने के आदेश दिए हैं।

केन्द्रशासित प्रदेश में कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए किए गए अन्य उपायों में सभी सामाजिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, शैक्षणिक, सांस्कृतिक, धार्मिक और त्यौहारों से संबंधित सभाओं पर भी प्रतिबंध लगाया गया है।

सभी धार्मिक स्थलों में भी सार्वजनिक रूप से पूजा-अर्चना करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसके अलावा, धर्म से संबंधित सभाओं के आयोजन पर भी रोक लगायी गयी है।

इनके अलावा, सभी पार्क, खेल के मैदान, स्टेडियम, जिम और योग संस्थानों को भी तत्काल प्रभाव से बंद करने का आदेश दिया गया है।

दक्षिण अंडमान जिले के सभी पर्यटक स्थलों को हालांकि बिना पूर्व सूचना दिए अचानक बंद करने का निर्णय पर्यटन हितधारकों को अच्छा नहीं लग रहा है। इससे अंडमान पर्यटन के हितधारकों में गुस्सा देखा जा रहा है, जो कोरेाना की पहली और दूसरी लहर में पहले से ही भारी नुकसान झेल चुके हैं।

इस बीच अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में पांच कॉलेजों की कक्षाएं जेएनआरएम, टीजीसीई, डीबीआरएआईटी, एएनसीओएल और एमजीजीसी और सभी प्रबंधन स्कूलों (सरकारी, सरकारी सहायता प्राप्त, निजी गैर-सहायता प्राप्त, स्थानीय निकाय, केवी और जेएनवी) की पहली से बारहवीं तक की कक्षाएं छात्रों में कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए एहतियाती उपाय के मद्देनजर आज से 31 जनवरी तक बंद रहेंगी।

गौरतलब है कि अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में सोमवार को कोरोना के 96 नए मामले सामने आए हैं। वर्तमान में केन्द्रशासित प्रदेश में कोरोना के 393 सक्रिय मामलेे हैं।

केन्द्रशासित प्रदेश में कोरोना की शुरूआत से अभी तक कुल 8246 लोगों संक्रमित हुए है जिनमें से 7724 लोग ठीक हो चुके हैं। अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में कोरोना की पहली और दूसरी लहर में 129 मौतें हुई हैं।