Breaking News
Home / लाइफस्टाइल / एंटीऑक्सीडेंट तत्व का भण्डार है ये पत्ता

एंटीऑक्सीडेंट तत्व का भण्डार है ये पत्ता

हम ये तो जानते है की पीपल का पेड़ बहुत ही पवित्र मन जाता है। धार्मिक दृष्टि से इसका बहुत महत्व है । यह शादी ब्याह और हर धार्मिक कार्य में काम आता है। यह पेड़ धार्मिक कार्य में ही नहीं स्वास्थ्य के लिए भी अत्यंत लाभकारी है। इस पेड़ से डायरिया, गोनोर, नसों में सूजन, झुर्रियों की समस्या जैसी बीमारियों से छुटकारा मिल जाता है। पीपल के पेड़ में एंटीऑक्सीडेंट तत्त्व पाए जाते है जो सेहत के लिए बहुत लाभकारी है।

  1. पाए झुर्रियों से छुटकारा: पीपल के पेड़ की जड़ो में एंटीऑक्सीडेंट तत्त्व प्रचूर मात्रा में पाए जाते है जो की चेहरे की झुर्रिया दूर करने में लाभदायक होते है । पीपल के पत्तो की जड़ो को काटकर पानी में भिगोकर पीस ली लीजिये। इस पेस्ट को चेहरे पर उपयोग करने से चेहरे की झुर्रियां कुछ ही समय में दूर हो जाती है।

२. दाँतों की समस्या का निदान: पीपल दाँतो की हर समस्या को दूर करता है। पीपल की छाल, कत्था और काली मिर्च के मिश्रण को पीसकर इसका पेस्ट बना लिजिये। इसके नित्य सेवन से दाँतों का हिलना, दांतों की बदबू आदि रोगों से छुटकारा मिल जाता है।

Loading...

3 चर्म रोगों से छुटकारा: पीपल के पत्तो के नियमित सेवन से त्वचा संबंधी रोगों से छुटकारा मिलता है। रोज़ तीन से चार मुलायम पत्तो को चबाएं।

  1. फटी एड़ियो के लिए फायदेमंद: फटी एड़ियो में पीपल के पत्ते का दूध लगाए। इसके प्रयोग से तालु नरम पड़ जाते है और कुछ ही दिनों में एड़ियां नरम और मुलायम बन जाती है।

5 गैस और कब्ज में लाभदायक: पीपल पेट की समस्या के लिए अमृत बाण है । इसके पिट नाशक माना जाता है। इसके पत्तों के रास के सेवन से पिट नाश राहत मिलती है।

6 नकसीर रोकता है: नकसीर की समस्या को रोकने में पीपल का पत्ता बहुत फायदेमंद होता है। इसका ताजा रास नाक में डाले और कुछ ही देर में नकसीर बहनी बंद हो जाएगी ।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *