क्या आप भी सर्वाइकल पेन से हैं परेशान? अपनाएं ये घरेलू नुस्खे

आज की लाइफस्टाइल के चलते सर्वाइकल पेन से बड़े लोग ही नहीं बच्चे भी प्रभावित हो रहे है। गलत पॉस्चर, कम परिश्रम, ऑफिस में दिन भर कुर्सी में बैठकर कंप्यूटर के सामने काम करना आदि ये भी आदते हमारे शरीर की गंभीर समस्या को जन्म देती है जिनसे हम अनजान रहते है।  गलत पोश्चर या एक जगह बहुत देर तक एक जगह बैठकर काम करने से हमारी गर्दन, कमर व रीढ़ की हड्डी में समस्या उतपन्न होने लगती है व उनमे दर्द होने लगता है। सर्वाइकल का पेन भी इन्हीं गलत आदतों की वजह से उतपन्न दर्द है जो गर्दन से शुरू होकर शरीर के अंगो तक पहुंच जाता है। आज बुजुर्ग ही नहीं बच्चे भी इस रोग से परेशान है।  समय पर इस दर्द का इलाज जरुरी है अन्यथा यह रोग गंभीर समस्या बन सकता है।  आइये जानते है सर्वाइकल से बचने के कुछ घरेलू उपाय –

हल्दी का करें प्रयोग – हल्दी एक प्राकृतिक दर्द निवारक दवा मानी जाती है।  यह रक्त संचार को दुरुस्त करती है।  किसी भी प्रकार के दर्द में हल्दी बहुत फायदेमंद होती है।  सर्वाइकल पेन से निजात पाने के लिए आप एक चम्मच हल्दी को एक गिलास दूध में उबाल लें।  थोड़ा ठंडा होने पर इस दूध का सेवन करें।  इसके रोज़ाना सेवन से आप को दर्द में राहत मिलेगी।

2 गर्दन में सेक करें  सर्वाइकल पेन से निजात पाने के लिए आप गर्दन में सेक करें।  इसके लिए आप एक भगोने में पानी उबाल लें और उसमे एक से दो चम्मच नमक मिलाएं।  जब पानी कुछ ठंडा हो जाए तो इसे एक बोतल में भर लें।  अब इस बोतल से गर्दन की सिकाई करें।  ऐसा करने से आपको गर्दन से दर्द व सूजन में आराम मिलेगा।

3 तिल के तेल की मालिश करें  तिल का तेल हड्डियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है।  इसमें पोटैशियम, जिंक, विटामिन डी, कॉपर जैसे तत्व पाए जाते है।  सर्वाइकल से परेशान रोगियों को रोज़ाना तिल के तेल को गर्म करके उससे गर्दन की मालिश करनी चाहिए या तिल का सेवन करना चाहिए।  दर्द से राहत मिलेगी।

लहसुन है लाभदायक – सर्वाइकल पेन के लिए लहसुन भी अत्यंत लाभदायक है।  लहसुन में औषधीय गुण मौजूद होने के कारण यह दर्द व सूजन से छुटकारा  दिलाने में लाभदायक है।  सर्वाइकल के दर्द से आराम पाने के लिए सरसों के तेल में तीन लहसुन की कलियां मिलाकर इसे भून लें।  तेल ठंडा होने पर प्रभावित स्थान पर लगाएं।  आराम मिलेगा।

इन आहारों के इस्तेमाल से बॉडी को दें मजबूती !