Ashok Gehlot ने गजेंद्र शेखावत को कहा ‘निकम्मा’, मंत्री बोले- यह तो उनका प्रिय शब्द है

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्रीय जलशक्ति मंत्री और बीजेपी गजेंद्र सिंह शेखावत के बारे में अजीब बयान दे दिया है. ईआरसीपी (ERCP) मीटिंग के बारे में बात करते हुए अशोक गहलोत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ ऐसे-ऐसे निकम्मे मंत्री हैं कि उन्हें यही नहीं पता है कि प्रधानमंत्री क्या बोल रहे हैं. दरअसल, अशोक गहलोत ने कहा कि पीएम मोदी ने ईआरसीपी को लिए बयान दिए और उस मीटिंग में गजेंद्र सिंह शेखावत मौजूद थे लेकिन अब वह कहते हैं कि उन्होंने बात ही नहीं सुनी है. गहलोत के इस बयान पर गजेंद्र शेखावत ने कहा कि ‘निकम्मा’ तो अशोक गहलोत का प्रिय शब्द है.

गजेंद्र शेखावत को आड़े हाथ लेते हुए अशोक गहलोत ने कहा कि केंद्रीय जल शक्ति मंत्री कहते हैं कि प्रधानमंत्री ने इस तरह का कोई आश्वासन नहीं दिया लेकिन उन्हें यह याद रखना चाहिए कि जिन सभाओं में पीएम ने ERCP को लेकर बयान दिए, उन सभाओं में खुद गजेंद्र शेखावत भी मौजूद थे. अब वह कहते हैं कि मैंने यह बात नहीं सुनी.

‘पीएम की बात ही नहीं सुनते मंत्री’
अशोक गहलोत ने आगे कहा, ‘यह बड़ी गंभीर बात है कि प्रधानमंत्री मोदी मीटिंग में कोई बात कह रहे हैं और उनके मंत्री एब्सेंट माइंड होकर बैठते हैं. ऐसे निकम्मे मंत्री हैं कि उन्हें यही पता नहीं कि प्रधानमंत्री क्या बोल रहे हैं.’ इतना ही नहीं अशोक गहलोत ने मांग कर डाली कि जो मंत्री, प्रधानमंत्री की बैठक में एब्सेंट माइंड रहते हों, उन निकम्मे मंत्रियों को मंत्रालय से बाहर कर देना चाहिए.

हाल ही में सीएम अशोक गहलोत ने ERCP को लेकर अहम बैठक ली. इस मीटिंग में पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना (ERCP) का काम रोकने के लिए लिखे गए पत्र पर अशोक गहलोत ने कहा कि इस योजना को लागू करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने राजस्थान के दौरे के दौरान आश्वासन दिया था लेकिन अब केंद्रीय जल शक्ति मंत्री इस तरह के किसी भी आश्वासन के लिए मना करते हैं जबकि हकीकत यह है कि पीएम मोदी ने अजमेर और जयपुर की जनसभा में ईआरसीपी को राष्ट्रीय प्रोजेक्ट घोषित करने का वादा किया था. अब केंद्रीय मंत्री सरासर झूठ बोल रहे हैं कि पीएम मोदी ने ऐसा कोई वादा नहीं किया.

यह भी पढ़ें:

अर्जेंटीना में आर्थिक संकट , वित्त मंत्री ने दिया इस्तीफा