Assam में बंद किए गए 800 सरकारी मदरसे, हिमंत बोले- कौमी मदरसों पर नजर रखें लोग

असम की हिमंत बिस्वा सरमा सरकार (Himanta Biswa Sarma) ने मदरसों के खिलाफ बड़ा एक्शन लिया है. हिमंत बिस्वा सरमा ने गुरुवार को बताया कि राज्य सरकार द्वारा 800 मदरसे खत्म कर दिए गए हैं. उन्होंने कहा कि अभी भी राज्य में बहुत सारे कौमी मदरसे हैं. लोगों को इन मदरसों पर नजर रखनी चाहिए कि इनमें क्या विषय बच्चों को पढ़ाए जा रहे हैं.

उन्होंने बताया कि आज मोरीगांव में आपदा प्रबंधन अधिनियम और यूएपीए अधिनियम के तहत जमीउल हुडा मदरसे को तोड़ा गया है. हिमंत बिस्वा सरमा ने बताया कि इस मदरसे में जो 43 बच्चे पढ़ रहे थे उन्हें अब विभिन्न स्कूलों में दाखिला दिया गया है. मुस्तफा उर्फ मुफ्ती मुस्तफा ने 2017 में भोपाल से इस्लामिक लॉ में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की थी.

BSF के अधिकार क्षेत्र को लेकर पूछे गए एक सवाल में उन्होंने कहा कि असम पहले ही बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र के विस्तार का स्वागत कर चुका है. हम बीएसएफ को हरसंभव सहयोग की पेशकश कर रहे हैं. हम हमेशा केंद्र सरकार की एजेंसियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें:

चीन-ताइवान में जंग छिड़ी तो मुश्किल में आएंगी कार और मोबाइल कंपनियां