दमा नहीं करेगा अब आपको परेशान

क्या आप जानते अस्थमा यानी की दमा एक जानलेवा रोग है। इस बीमारी में रोगी की ज़ोर – ज़ोर से साँस फूलती है, सीने पे जकड़न ओर भारीपन, फेफड़ों से सीटी की आवाज़ें आती है ओर पूरा शरीर पसीने से भीग जाता है । आइए जाने होता क्या है अस्थमा (दमा) ?ये एक प्रकार की ऐलर्जी है जो किसी भी चीज़ से हो सकती है जैसे की धूल सूखा गोबर ठंड ग़ुस्सा अनुवंशिक गेहूँ कटने के मौसम में पालतू जानवरों के बालों से महिलाओं में हार्मोनल बदलाव से।

जब भी किसी को दमे का दौरा आता है तो शुरुआत होती है सूखी खाँसीं से फिर यही सूखी खाँसी बढ़ने बढ़ने लगती है और साँस की नली से लिपटी माँसपेशियाँ ऐठने लगती है जिसकी वजह साँस की नली में सिकुड़न आ जाती है ओर बलघम का स्रव शुरू होता है। जिसकी वजह से साँस फूलती  है ओर फेफड़ों से सीटी की आवाज़ें आती है।

कैसे रहे स्वास्थ अस्थमा के साथ ?यदि किसी को दमा है तो इसका मतलब ये कि उसका जीवन समाप्त, बिलकुल भी नहीं आइए हम बताएँगे आपको कैसे आप ख़ुद को रख सकते स्वस्थ ओर फ़िट वो भी दमा के साथ

  • हमेशा हल्का ओर जल्द हज़म होने वाले आहार खाए।
  • ठंडी चीज़ों से परहेज़ करें। रात में दही, कोल्ड ड्रिंक, या ठंडी चीज़ों के इस्तेमाल बिलकुल ना करें ।
  • ग्रीन टी का उपयोग कर कम से कम दिन में 2 बार।
  • धूल से ऐलर्जी है तो रुमाल से नाक ढक कर बाहर जाए।
  • मच्छर भगाने वाली बत्तियाँ ना इस्तेमाल करे।
  • अगर इन्हेलर या रौथहैलर इस्तेमाल करते है तो हमेशा अपने पॉकेट में या बैग में रखें।
  • धूम्रपान से बचे यहाँ तक कि अगर कोई कर रहा हो तो वहाँ भी ना खड़े हो ।

वैसे तो आधुनिक चिकित्सा में दमे का इलाज है जैसे इन्हेलर या खाने की दवाइयाँ। परंतु हम आपको कुछ आयुर्वेदिक ओर उनानी नुस्ख़े बताएँगे यहाँ जो आप कोई भी अपने घर में आसानी से बना सकता है ओर इसके उपयोग करने का तरीक़ा भी बहुत आसान है।

  • लहसुन, अदरक ओर शहद ये नुस्ख़ा दमे के लिए रामबाण इलाज है। एक कली लहसुन ओर उतना ही बड़ा अदरक का टुकड़ा ले के 1 चम्मच शहद कि साथ खाए बहुत जल्दी आराम मिलेगा।
  • 1 ग्राम मूलेठी ओर सोठ को 1 चम्मच शहद में मिला के खाए दमे की सूखी खाँसी से राहत मिलेगी।
  •  ज़ैतून के तेल में लहसुन को जला ले फिर उसमें आधा ग्राम कपूर मिला कि सीने पे मालिश करे दमे में आराम मिलेगा। गर्म गाए के दूध में 1  चम्मच हल्दी ओर आधा चम्मच मिसरी डाल के रोज़ पिए।