अयोध्या रामलीला: पहले दिन ‘देवश्री नारद’ के रूप में दिखे हास्य कलाकार असरानी

अयोध्या में शनिवार से नौ दिवसीय रामलीला की शुरुआत हो चुकी हैं। सरयू तट स्थित लक्ष्मण किला परिसर में आयोजित की जा रही ‘रामलीला’ के पहले दिन फिल्मी सितारों ने शिव-पार्वती समेत संवाद का मंचन किया। इससे पहले गणेश वंदना के साथ नौ दिवसीय वर्चुअल रामलीला का शुभारंभ हुआ। बंदना की अवधि करीब 25 मिनट की रही। दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर देने वाली इस गणेश वंदना में संगीत, तकनीकि और कलाकारों के कौशल का नजारा दिखाई दिया।

रामलीला के पहले दिन कैलाश पर्वत की तरह सजे मंच पर पार्वती जी शिवजी से कहती हैं आपकी महिमा तीनों लोको में प्रसिद्ध है। यदि आप मुझ पर प्रसन्न हैं और मुझे सच्ची दासी मानते हैं तो हे प्रभु! श्री रघुनाथ जी की नाना प्रकार की कथा कहकर मेरा अज्ञान दूर कीजिए।

माता के आग्रह पर शिव जी कहते हैं तुम्हारे समान उपकारी कोई नहीं है। तुम राम जी का प्रसंग पूछकर सब लोको को पवित्र कर देने वाली गंगा के समान रामकथा की हेतु बनी है। इस तरह शिव पार्वती संवाद के साथ मंच पर रामलीला ‘रामकथा’ की तरफ आगे बढ़ती हैं।

शिव पार्वती जी से कहते हैं कि “जब जब होई धरम कै हानि। बाढ़हिं असुर अधम अभिमानी।। तब तब प्रभु धरि विविध शरीरा। हरहिं कृपानिधि सज्जन पीरा।” हे पार्वती जब-जब धर्म की हानि होती है और नीच, अभिमानी असुर बढ़ जाते हैं जब कृपानिधि श्री हरि अनेक प्रकार का शरीर धारण कर भक्तों की पीड़ा रहते हैं।

रामकथा के एक अन्य दृश्य में बॉलीवुड के प्रख्यात हास्य कलाकार असरानी ‘नारद’ के रूप में प्रकट होते हैं। कुछ देर उनका संवाद चलता है और फिर वे समाधि में चले जाते हैं। इसके बाद अगले दृश्य में इंद्र और कामदेव का संवाद दिखाई देता हैं। इंद्र, कामदेव से नारद की समाधि भंग करने के लिए कहते हैं। कथा के दूसरे दिवस श्रवण के माता-पिता द्वारा राजा दशरथ को श्राप देने सहित राम जन्म की कथा का मंचन किया जाएगा।

यह भी पढ़े: इन घरेलू नुस्खों से जीभ पर जमी सफेद परत को करें साफ
यह भी पढ़े: Arabic खाने के ये फायदे जानकर हो जायेंगे आप भी हैरान

Loading...