महिलाओं पर की गई टिप्पणी पर बाबा रामदेव ने मांगी माफ़ी, कहा-मुझे गलत समझा गया

मुंबई (एजेंसी/वार्ता): योग गुरु बाबा रामदेव ने महाराष्ट्र में आयोजित एक कार्यक्रम में महिलाओं पर अपनी कथित टिप्पणी के लिए सोमवार को खेद व्यक्त किया और माफी मांगी। उन्होंने दावा किया कि महिलाओं पर की गयी, उनकी टिप्पणी को गलत तरीके से पेश किया गया।

पिछले हफ्ते ठाणे में महिलाओं के लिए पतंजलि समूह के मुफ्त योग प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के पुत्र ठाणे सांसद श्रीकांत शिंदे और भारतीय जनता पार्टी के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र की पत्नी अमृता फडणवीस और अन्य प्रमुख हस्तियों की उपस्थिति में रामदेव ने कहा था, “महिलाएं साड़ियों में अच्छी लगती हैं, वे सलवार सूट में अच्छी लगती हैं, और मेरे विचार में, वे कुछ भी न पहनने पर भी अच्छी दिखती हैं।”

उनकी इस भद्दी टिप्पणी से राज्य में एक नया विवाद खड़ा हो गया। इसके अलावा, उनके अगले कार्यक्रम के लिए उन्हें धमकाया भी गया। महाराष्ट्र राज्य महिला आयोग (एमएससीडब्ल्यू) की अध्यक्ष रूपाली चाकणकर को समय सीमा के अंदर योगगुरु रामदेव ने तर्क देते हुए जबाव दिया कि उन्होंने राज्य पैनल के किसी भी नियम का उल्लंघन नहीं किया है, और वह हमेशा से ही महिलाओं को सभी क्षेत्रों में सम्मान दिलाते आएं हैं और इसी के साथ ही उन्हें समानता दिलाने के हक में वैश्विक स्तर पर अभियान चलाया है। एमएससीडब्ल्यू की अध्यक्ष ने कहा कि आयोग को उसके नोटिस पर रामदेव का जवाब मिल गया है और अगर कोई और आपत्ति या शिकायत है तो आयोग पूरी जांच करेगा और पिछले सप्ताह आयोजित कार्यक्रम की पूरी वीडियो रिकॉर्डिंग भी प्राप्त करेगा।

बाबा रामदेव ने कहा, “ ‘मैंने ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ जैसी सरकार की विभिन्न नीतियों का भी समर्थन किया है, उन्हें प्रोत्साहित किया है और उन्हें सशक्त करने के लिए कई संगठनों के साथ काम किया है। मैं स्पष्ट रूप से कहता हूं कि मैंने किसी महिला का अपमान नहीं किया है और न ही ऐसा करने का मेरा कोई इरादा था।” उन्होंने कहा कि उनका यह कार्यक्रम महिला सशक्तिकरण थीम पर आधारित था और उन्होंने इस कार्यक्रम में एक घंटे से ज्यादा समय तक भाषण दिए, जिसमें महिलाओं के पक्ष में तमाम बातें कहीं, लेकिन उनके कुछ सेकंड की टिप्पणियों पर वीडियो क्लिप को गलत मंशा से पेश किया गया।

बाबा रामदेव ने कहा कि उनके मन में माँ और मातृ-शक्ति के लिए सबसे अधिक सम्मान है। पोशाक पर टिप्पणी ‘सादा कपड़े’ के लिए थी। अगर इससे किसी की भावना को ठेस पहुंची है तो मुझे इसका गहरा खेद है। उन्होंने कहा कि “मैं उनसे किसी भी तरह की परेशानी के लिए माफी भी मांगता हूं।”

-एजेंसी/वार्ता

यह भी पढ़े: मजेदार जोक्स: क्या मैं पहला लड़का हूं जिसके लिए तुम पार्क में आई और इतना प्यार किया?