गर्वभावस्था के दौरान सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है तुलसी की पत्तियां

सामान्यतः गर्वभावस्था में महिलाये अपने शरीर का अत्यधिक ध्यान रखती है। क्योकि शरीर का सही तरिके से ध्यान न रखने पर गर्भ में पल रहे बच्चे पर भी इसका गंभीर असर पड़ता है। तुलसी एक महत्वपूर्ण औषधि है। इसका इस्तेमाल कई तरह की गंभीर बीमारियों के इलाज में किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि तुलसी गर्भवती महिलाओं के लिए भी किसी वरदान से कतई कम नहीं है। सबसे अच्छी बात है कि ये पूर्ण्तः सुरक्षित है। गर्भावस्था में इसके नियमित सेवन से संक्रमण का खतरा अत्यधिक कम हो जाता है। इसकी पत्तियां में एंटी-बैक्टीरियल गुण मौजूद होते है।इसके अलावा ये रोग-प्रतिरोधक क्षमता को भी पूर्ण्तः दुरुस्त रखने में सहायक है। आइये आपको बताते है प्रेग्नेंसी के दौरान तुलसी खाने के फायदे-

कई सारे रिपोर्ट्स में कहा गया है- तुलसी की पत्त‍ियों में हीलिंग क्वालिटी मौजूद होती है। इसकी पत्तियों में एंटी-बैक्‍टीरियल, एंटी-वायरल और एंटी-फंगल गुण होता है।

तुलसी की पत्तियां मैग्‍नीशियम का बेहतरीन स्त्रोत हैं। ये लवण बच्चों की हड्ड‍ियों के विकास के लिए बहुत आवश्यक है।इसमें मौजूद मैगनीज टेंशन को कम करने का काम करता है।

तुलसी की पत्तियों में एंटी-बैक्टीरियल गुण पाया जाता है।इससे मां और गर्भ में पल रहे बच्चे दोनों ही को संक्रमण होने का खतरा बहुत कम हो जाता है।

आपको बता दे की तुलसी की पत्ति‍यों में ‘विटामिन ए’ पाया जाता है जो गर्भ में पल रहे शिशु के विकास के लिए आवश्यक तत्व है।