हो जाइये सावधान अगर आप भी धोते हैं लिक्विड सोप से हाथ !

अगर आप रोगाणुओं और जीवाणुओं से पूरी तरह बचने के लिये हैंड जेल या फिर लिक्विड सोप का इस्तेमाल करते हो तो पूरी तरह सावधान हो जाओ। और सोचो क्या ये उतना प्रभावी है जितना कि आप सोच रहे हैं? या फिर किसी लिक्विड सोप को लेकर आपकी जितनी जानकारी है, उतनी ही ज्यादा सच है?

दुनिया भर में हर रोज लगभग करोड़ों की संख्या में लोग हैंड जेल या लिक्विड सोप का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन ज़रा संभलिये क्योंकि इसमें 60 पर्सेंट से ज्यादा अल्कोहल होता है। जो आपके हाथों की रोगाणुओं को झट से खत्म तो कर देता है लेकिन इसके कुछ और असर भी होते हैं। जिनसे आप पूरी तरह अंजान होंगे।

किन रोगाणुओं मे असर नहीं करते हैंडजेल्स या लिक्विड सोप-

दरअसल ये हैंडजेल्स हर बार असरकारक नहीं होते क्योंकि कुछ रोगाणु जैसे न्यूरोवायरस और सी। डिफिसाइल पर ये असरकारक नहीं होते। इसलिये ये कहा जा सकता है कि हैंडजेल्स की सफलता इस बात पर भी निर्भर करती है कि आपके हाथों में मिट्टी की मौजूदगी कितनी है।

इसलिये ये कहना भी गलत नहीं होगा कि हैंडजेल्स से ज्यादा प्रभावी साबुन और पानी से हाथ धोना होता है।

हैंडजेल्स या लिक्विड सोप्स कैसे करते हैं नुकसान-

इसमें ट्राइकोल्सन होता है जो हॉर्मोन में गड़बड़ी पैदा होती है। और यह जीवाणु प्रतिरोधी क्षमता को कम करता है।

ट्राइकोल्सन के कारण पेट होती है। बच्चों को इससे उल्टी की आशंका बनी रहती है।

यह भी पढ़ें-

नींबू रस से पेट की चर्बी कर सकते है कम