हो जाइये सावधान अगर आपको है बैठे-बैठे पैर हिलाने की आदत

733931637 35 to 39 years, at home, bed, bedroom, cellular telephone, comfortable, cropped, day, female, getting dressed, getting ready, indoors, leisure time, mid adult woman, morning routine, morning, one person, only one mid adult woman, putting on, relaxation, side table, sitting, slipper, smartphone, technology, waist down, woman, wrapped in a blanket, Florence, Tuscany, Italy

रेस्टलेस लेग सिंड्रोम एक गंभीर न्यूरोलॉजिकल समस्या है। इस प्रॉब्लम का महत्वपूर्ण संकेत कुर्सी या फिर सोफे पर बैठ कर पैरों को लगातार हिलाना है। कई बार यह कुछ लोगों की यह आदत होती हैं या फिर मानसिक परेशानियों के कारण भी यह गंभीर समस्या होती है। इसके होने से रात को सोते समय टांगो में बहुत तेज दर्द होता है जिसके कारण आप चैन की नींद नहीं ले पाते। कभी-कभी कुछ लोगों में पैर हिलाने के लक्षण तो देखे जाते हैं लेकिन उन्हें किसी तरह का दर्द नहीं होता। इसका मतलब यह नहीं कि इस बीमारी से उनके शरीर को कोई खास नुकसान नहीं होता। अगर इस गंभीर समस्या का सही समय पर ईलाज न किया जाए तो आपको आगे जाकर इसे ठीक करने के लिए न्यूरोलॉजिस्ट और साइकोलॉजिस्ट दोनों डॉक्टर से ईलाज कराने की आवश्यकता पड़ सकती है। आज हम आपको रेस्टलेस लेग सिंड्रोम के ईलाज के बारे में पूरी जानकारी देंगे।

दर्द का समय
ज्यादातर इसका दर्द रात को सोने के समय होता है और दिन में ठीक हो जाता है। दिन के समय इस दर्द का कारण लंबे समय तक खड़े रहना या फिर ज्यादा देर पैदल चलने पर होता है।

इस बीमारी का कारण
यह बीमारी शरीर में आयरन, मैग्नीशियम और विटामिन B12 आदि पोषक तत्वों की कमी से होती है। इसके अलावा डिप्रेशन या एलर्जी की दवाई लगातार खाने से भी रेस्टलेस लेग सिंड्रोम की गंभीर समस्या हो सकती है।

यह भी पढ़ें-

हल्दी के पानी का करें सेवन, सेहत के लिए होगा बहुत फायदेमंद