भारत में बड़ी कंपनियां डेवलेपर्स से सीधे खरीद सकेंगी कोरोना वैक्सीन: सूत्र

बड़ी कंपनियां अपने कर्मचारियों के लिए सीधे डेवलेपर्स से कोविड-19 वैक्सीन खरीद सकेंगी। इसके लिए केंद्र सरकार एक योजना पर काम कर रही है। मामले से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि भारत की अधिकतर वैक्सीन योजना राज्य द्वारा पोषित होगी और इसकी लागत लगभग 50 हजार करोड़ रुपये तक होगी। वहीं अधिकारियों ने विश्लेषको के हवाले से पुष्टि की है कि 2021 में भारत के भीतर हर किसी को वैक्सीन मिल पाना संभव नहीं हो सकेगा।

अधिकारियों ने बताया कि सरकार प्रमुख आर्थिक गतिविधियों में कोई व्यवधान न हो, यह सुनिश्चित करना चाहती है। बड़ी कंपनियों द्वारा सीधे डेवलेपर्स से कोविड-19 वैक्सीन खरीदने की अनुमति का अब प्रधानमंत्री कार्यलाय से मंजूरी मिलने की देरी है। मंजूरी मिलती है तो इंडियन इंक के लिए वैक्सीन का एक विंडो बहुत ही सीमित स्पलाई के साथ खुल जाएगा। जिसमें स्वास्थ्य कर्मचारियों, सह-रुग्णता वाले रोगियों और वृद्ध आबादी को पहले खुराक दी जाएगी।

अधिकारियों का कहना है कि अभी इस बात पर फैसला लिया जाना है कि कौन-सी कंपनियां सीधे तौर पर वैक्सीन निर्माताओं से वैक्सीन खरीद सकेंगी। लेकिन सम्भावना है कि पेट्रोलियम, स्टील, फार्मा, सीमेंट और कोयला जैसे प्रमुख क्षेत्रों में अनुमति दी जा सकती है। इससे केंद्र पर वित्तीय दबाव भी कम होगा।

यह भी पढ़े: हाथरस गैंगरेप पर BJP विधायक का अजीब बयान, मां-बाप को ठहराया जिम्मेदार
यह भी पढ़े: IPL 2020: देवदत्त पड्डीकल ने रचा इतिहास, ऐसा करने वाले बने पहले बल्लेबाज