Bihar Election: पहले चरण के लिए 1,057 प्रत्‍याशियों ने किया नामांकन, 111 करोड़पति तो 84 पर गंभीर आपराधिक मामले हैं दर्ज

बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण की 71 सीटों के लिए नामांकन संपन्‍न हो चुका है। पहले चरण की सीटों पर 1,057 प्रत्‍याशियों ने नामांकन किया है। हालांकि, सीधी लड़ाई राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन एवं महागठबंधन में दिख रही है। पहले फेज के एडीए एवं महागठबंधन के प्रत्‍याशियों की एफिडेविट से कई चौंकाने वाले तथ्‍य उजागर हुए हैं। दोनों प्रमुख गठबंधनों के 142 प्रत्‍याशियों में से 111 करोड़पति हैं तो 84 पर आपराधिक मामले दर्ज हैं।

पहले चरण में एनडीए और महागठबंधन के 142 प्रत्‍याशियों में से 111 के पास एक करोड़ से ज्यादा की संपत्ति है। गया जिले की अतरी सीट की JDU प्रत्‍याशी मनोरमा देवी पहले विधान पार्षद थीं। वे गया के बाहुबली नेता रहे बिंदी यादव की पत्‍नी हैं। बिंदी यादव की हाल ही में कोरोना संक्रमण के कारण मौत हो गई थी।

साल 2016 में मनोरमा देवी के घर से शराब पकड़ी गई थी। पहली बार चुनाव लड़ रही मनोरमा देवी ने अपने हलफनामे में अपनी संपत्ति 89.77 करोड़ रुपये की बताई है। इनमें 44.77 करोड़ की चल और 45 करोड़ की अचल संपत्ति शामिल हैं। 2015 में मनोरमा देवी ने विधान परिषद के चुनाव के दौरान अपने हलफनामा में 12.24 करोड़ की संपत्ति का विवरण दिया था।

गैरतलब है कि राजनीति में अपराधीकरण के खिलाफ तो सभी पार्टियां हैं, लेकिन ज्‍यादातर पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। पहले फेज के 142 प्रत्‍याशियों में से 84 पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। यह आंकड़ा 60 फीसद का है। मोकामा सीट से RJD प्रत्‍याशी व वर्तमान विधायक अनंत सिंह के ऊपर सर्वाधिक 38 मामले दर्ज हैं।

इनमें हत्या, हत्या की कोशिश, अपहरण आदि जैसे संगीन मामले भी शामिल हैं। आपराधिक मामलों में दूसरे नंबर पर आरा सीट से भारतीय कम्‍युनिस्‍ट पार्टी माले के प्रत्‍याशी मनोज मंजिल हैं। उनके खिलाफ 30 मामले दर्ज हैं। मनोज मंजिल को नामांकन के दिन पुलिस ने गिरफ्तार भी कर लिया।

Loading...