बिहार: वरिष्ठ नेता डॉ उषा विद्यार्थी ने दिया BJP को झटका, लोजपा में हुई शामिल

बिहार विधानसभा चुनावों से पहले भाजपा की वरिष्ठ नेता डॉ उषा विद्यार्थी ने लोजपा का हाथ थाम लिया हैं। लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलवाई। उषा विद्यार्थी का भाजपा छोड़ना काफी बड़ा झटका हैं। क्योंकि कल ही पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह ने भी भाजपा छोड़ लोजपा का दामन थामा था। गौरतलब है कि उषा विद्यार्थी पटना के पालीगंज विधानसभा सीट से विधायक रह चुकी हैं और बिहार राज्य महिला आयोग की सदस्य भी हैं।

उषा विद्यार्थी के लोजपा में शामिल होने के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि उन्हें एक बार फिर पालीगंज से उम्मीदवार बनाया जा सकता है। भाजपा छोड़ने और लोजपा में शामिल होने के बाद उषा ने कहा कि वह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर चिराग के स्टैंड से काफी प्रभावित हैं। बिहार को आगे ले जाने के लिए कुछ कड़े कदम उठाने की जरुरत हैं। उनके लिए बिहार फर्स्ट, बिहारी फर्स्ट एक विचार है। बता दे पालीगंज सीट भाजपा की परंपरागत सीट रही हैं।

कहा जा रहा हैं कि उषा को लोजपा में शामिल कराये जाने के पीछे चिराग की ही योजना हैं। दरअसल, दो महीने पहले उषा ने कहा था कि पालीगंज सीट भाजपा की परंपरागत सीट है और यह सीट परिवर्तित होती है तो वह निर्दलीय ही चुनाव मैदान में उतरेगी। एमए, पीएचडी और एलएलबी कर चुकी उषा ने 1992 में राजनीति में प्रवेश किया था। वह पिछले 28 वर्षों से भाजपा से जुड़ी थी और प्रदेश उपाध्यक्ष और प्रदेश प्रवक्ता जैसे बड़े पदों पर काम कर चुकी हैं।

यह भी पढ़े: एक महीने जेल में बिताने के बाद रिया चक्रवर्ती को मिली जमानत, माननी होंगी ये शर्तें
यह भी पढ़े: कोरोना संक्रमित होते हुए हाथरस गए थे AAP विधायक कुलदीप कुमार, केस दर्ज

Loading...