23000 डॉलर के नीचे आया बिटक्वॉइन, Dogecoin और Shiba Inu में मामूली बढ़त

क्रिप्टोकरेंसीज की कीमतों में शुक्रवार को मिला-जुला रुख देखने को मिला। बिटक्वॉइन (Bitcoin) 23,000 डॉलर के नीचे ट्रेड करता नजर आया। दुनिया की सबसे पॉप्युलर क्रिप्टोकरेंसीज बिटक्वॉइन शुक्रवार को करीब 1 पर्सेंट की गिरावट के साथ 22,971 डॉलर पर ट्रेड कर रही है। CoinGecko के मुताबिक, ग्लोबल क्रिप्टो मार्केट कैप शुक्रवार को 1 ट्रिलियन डॉलर के ऊपर ही रहा। पिछले 24 घंटे में यह 1.12 ट्रिलियन डॉलर पर लगभग फ्लैट रहा है।

दूसरी डिजिटल करेंसी का क्या है रेट

वहीं दूसरी ओर दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी एथेरियम ब्लॉकचेन की ईथर मामूली बढ़त के साथ 1,657 डॉलर पर बना रहा। जबकि डॉगकॉइन की कीमत भी 1 प्रतिशत की बढ़त के साथ 0.06 डॉलर और शीबा इनु भी 0.5 प्रतिशत की मामूली बढ़त के साथ 0.000012 डॉलर पर बना रहा।

दूसरी कई डिजिटल क्रिप्टोकरेंसी का प्रदर्शन भी मिला जुला रहा। जहां एक्सआरपी, सोलोना, बीएनबी, लिटकॉइन, चेनलिंक, टीथर, पोलकाडॉट, पॉलीगॉन की कीमत में पिछले 24 घंटे में मामूली बढ़त दिखाई दी है वहीं स्टेलर, एपिकॉन कीमतों में गिरावट देखी गई है।

क्या है एक्सपर्ट का कहना

Mudrex के CEO और को-फाउंडर एदुल पटेल कहते हैं की बिटकॉइन का 22,000 डॉलर से नीचे गिरने के बावजूद बाजार में अभी भी दबदबा दिखाता है कि अभी भी बिटकॉइन बाजार में बहुत ताकतवर है। अभी भी बिटकॉइन का सपोर्ट प्राइस 20,000 डॉलर है

जबकि रेसिस्टेंस 23,000 डॉलर। हम उम्मीद कर सकते हैं कि इस महीने के अंत तक बिटकॉइन की कीमत बढ़कर 23,000 डॉलर से ऊपर चले जाए। दूसरी सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी एथेरियम भी अगर 1,700 डॉलर के स्तर पर आ जाती है तो इसमें लगातार बढ़ोतरी की संभावना है।

2022 की शुरुआत से ही क्रिप्टो करेंसी की कीमतों में गिरावट

इस बीच कई क्रिप्टोकरेंसी कंपनियों ने या तो खुद को दिवालिया घोषित करने के लिए याचिका दायर की या उन्हें इमरजेंसी पूंजी को खर्च करने को दवाब डाला गया। ब्याज दरों में बढ़ोतरी और हाई प्रोफाइल मंदी की आशंकाओं ने इस साल डिजिटल टोकन को पछाड़ दिया है। बिटकॉइन जैसी कई क्रिप्टोकरेंसी की कीमत साल 2020 और 2021 में बढ़ी लेकिन इस साल की शुरूआत से हीं इसमें गिरावट देखने को मिल रही है।

यह पढ़े: मात्र ₹1,616 रुपये में मिल रहा हवाई टिकट, ऑफर का आज लास्ट डे, फटाफट कर लें बुकिंग