बिहार विधानसभा चुनाव में ऐसा रहेगा BJP का गणित, ये मुद्दे होंगे अहम

साल के आखिर में बिहार में विधानसभा चुनाव होने जा रहे है। पूरी संभावना है कि बीजेपी इन चुनावों में राष्ट्रीय मुद्दों को भुनाने का प्रयास जरूर करेगी। बीजेपी अपने प्रचार अभियान में जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 को खत्म करने और अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को शुरू करने का मुद्दा प्रमुखता से उठा सकती है। साथ ही इन चुनावों में बीजेपी नीतीश कुमार सरकार के किये गए कार्यों के साथ पीएम मोदी के नेतृत्व में केंद्र की उपलब्धियों को भी सामने रख सकती है।

दोनों ही प्रमुख पार्टियों के अलग-अलग वोट बैंक है। बिहार के बीजेपी नेता केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से अधिक से अधिक रैलियां करवाना चाहते है। इसके साथ ही, वे जेडीयू के मुकाबले बेहतर प्रदर्शन और ज्यादा सीट जीतना चाहते हैं।

दूसरी तरफ बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए के घटकों में सबसे ज्यादा सीटें जनता दल को मिलने की संभावना जताई जा रही है। एनडीए के तीनों घटक दलों- जदयू, भाजपा और लोजपा के बीच सीटों के बंटवारे का फॉर्मूला लगभग तैयार है। 15 सितंबर के बाद सीटों के बंटवारे को अंतिम रूप दिया जाएगा।

एनडीए में लगभग तय है कि जदयू सबसे ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ेगी और उससे थोड़े कम पर भाजपा मैदान में होगी। तीसरे नंबर की पार्टी लोजपा होगी। माना जा रहा है 243 सदस्यीय बिहार विधानसभा में जदयू लगभग 110 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। भाजपा की सीटों की संख्या 100 के आसपास रह सकती है।

वहीं, लोजपा को 30 से 35 सीटें दिए जाने की उम्मीद है। लेकिन लोजपा 40 से ज्यादा सीटों पर लड़ना चाहती है। छोटे दलों और नेताओं के साथ आने पर लगभग एक दर्जन सीटें उनको मिल सकती हैं। इसके लिए तीनों दलों को अपने हिस्से की सीटों में कटौती करनी होगी।

यह भी पढ़े: दिल्ली में फिर पैर पसारने लगा कोरोना, सामने आये 2300 से अधिक नए मरीज
यह भी पढ़े: कंगना रनौत ने करण जौहर से बताया खुद को खतरा, PM मोदी से मांगी मदद